आचार्यश्री समयसागर जी महाराज इस समय डोंगरगढ़ में हैंयोगसागर जी महाराज इस समय चंद्रगिरि तीर्थक्षेत्र डोंगरगढ़ में हैं Youtube - आचार्यश्री विद्यासागरजी के प्रवचन देखिए Youtube पर आचार्यश्री के वॉलपेपर Android पर आर्यिका पूर्णमति माताजी डूंगरपुर  में हैं।दिगंबर जैन टेम्पल/धर्मशाला Android पर Apple Store - शाकाहारी रेस्टोरेंट आईफोन/आईपैड पर Apple Store - जैन टेम्पल आईफोन/आईपैड पर Apple Store - आचार्यश्री विद्यासागरजी के वॉलपेपर फ्री डाउनलोड करें देश और विदेश के शाकाहारी जैन रेस्तराँ एवं होटल की जानकारी के लिए www.bevegetarian.in विजिट करें

सामयिक चिनंतवन

हे आत्मन ! तुम शास्वत रत्नत्रय निधि के स्वामी हो |
अनंत सूख शांति संतोष के भंडार हो | अपनी निधि को धर्म पुरुषार्थ के बाल पर प्राप्त करो |

हे आत्मन ! तुम शिद्ध के समान शुद्ध हो, चैतन्य के पुंज हो, अनंत शक्ति के धनी हो, तुम सबको जानने, देखने वाले स्वयं दुनिया के सुंदरतम पदार्थ हो | तुम स्वयं सुंदर हो, जिसका कोई रूप नहीं, ऐसे अरुपी अमुर्तिक हो, अपने सुंदर रूप को टटोलो, खोजों, जरूर दर्शन पोगाई, पा गए तो तुम तृप्त हो जाओगे |

हे आत्मन ! जिसे तुम बाहर देख रहे हो, वह जड़ है, नश्वर हे, देखने वाले तुम तो अपने अन्दर छिपे हुए हो |
अपने को अपने से अभिन्न चिदानन्द प्रभु को निहारो |

हे मुक्ति पाठ के राही | बाहर तुम किसकी आवाज़ सुनना चाह रहे हो | कारण पिएँ संगीत की? क्या यही कारणों का सौंदर्य है ? नहीं नहीं – तुम्हें अंतरात्मा पुकार रही है, उसकी मधुरम , क्रमक्षयकारिणि, सुंदर आत्मानंद दायिनी, सहजानंद दायिनी आवाज़ को सुनो |

प्रवचन वीडियो

कैलेंडर

june, 2024

चौदस 05th Jun, 202405th Jun, 2024

अष्टमी 14th Jun, 202414th Jun, 2024

चौदस 20th Jun, 202420th Jun, 2024

अष्टमी 29th Jun, 202429th Jun, 2024

X