समय सागर जी महाराज वर्धा में हैंसुधासागर जी महाराज बिजोलिया (राजस्थान) में हैंयोगसागर जी महाराज (ससंघ) बंडा में हैंमुनिश्री प्रमाणसागरजी महाराज बंडा में हैं आचार्यश्री की जानकारी अब Facebook पर Youtube - आचार्यश्री विद्यासागरजी के प्रवचन देखिए Youtube पर आचार्यश्री के वॉलपेपर Android पर शाकाहारी रेस्टोरेंट Android पर दिगंबर जैन टेम्पल/धर्मशाला Android पर देश और विदेश के जैन मंदिरों एवं जिनालय की जानकारी के लिए www.jaintemple.in विजिट करें

आचार्य श्री : इंदौर दैनिक खबरें

  • प्रतिभा स्थली में सब कुशल पूर्ण है आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज और पूरा संघ स्वस्थ हैं और क्षेत्र पर आचार्यसंघ के माध्यम से धर्म प्रभावना चल रही है।
  • इंदौर के 41 परिवार पूर्ण समर्पण के साथ क्षेत्र में रुककर चौका लगाकर आहारदान का सौभाग्य ले रहे है।
  • प्रतिदिन इन 41 चोको द्वारा अपने अपने चौकों में खड़े होकर पड़गाहन करने का बहुत सुंदर दृश्य रहता है ना कोई हल्ला गुल्ला, न धक्का मुक्की। हर चौके में सिर्फ 5 चौके वालों के परिवार के सदस्य शांति से आहार करवा रहे हैं।
  • कमेटी द्वारा समस्त व्यवस्थाएं की जा रही हैं। क्षेत्र को पूर्णतः टीन शेड से पैक कर दिया गया है कोई भी बाहर न तो जा सकता है न कोई बाहर से आ सकता है।
  • चौके वालों को समस्त किराना, सब्जी, गैस टंकी कमेटी द्वारा खरीद मूल्य पर दी जा रही है।
  • गुरु जी के क्लास और गुरु जी के पूरे दिन दर्शन बहुत शांति से हो रहे है। क्षेत्र में सभी लोग कुशल हैं।
  • सभी कर्मचारियों, पुलिस, दुकानदारों, को निःशुल्क भोजन कराया जा रहा है।
  • संघ के संत निवास को धूप कपूर से सेनेटाइज किया जाता है। दोपहर 12:00 से 4:30 और शाम 5:30 की आचार्य भक्ति के बाद प्रवेश बंद कर दिया जाता है।

आप सभी निश्चिन्त रहे आचार्यश्री और संघ पूर्ण स्वस्थ और सुरक्षित है आप सभी के बार बार चिंता व्यक्त करने के स्नेह हेतु आभार

निवेदक- अर्पित पटोदी, दयोदय चैरिटेबल ट्रस्ट


प्रकृति के खिलाफ काम करने से फैली महामारीः आचार्य विद्यासागर (25/03/2020)

इंदौर। सांवेर रोड स्थित तीर्थोदय धाम में आचार्य विद्यासागर महाराज ने मंगलवार को प्रवचन में कहा कि भारत की जनता बहुत उद्दम है, इसलिए सरकार को कड़े नियम बनाना पड़ रहे हैं। इसके बिना भारत की जनता नियंत्रण में नहीं आती, इसलिए धारा 144 लगाना आवश्यक हो गया सरकार के लिए। आप लोग शांति से रहें और इधर-उधर की बातें न करें। तत्व चिंतन न करो, वैराग्य पाठ करो। सभी लोग सरकार की बात मानें, क्योंकि ऐसा है कि विदेशों में इससे कई गुना ज्यादा वायरस हो गया है। यहां तो सिर्फ सावधानी की अपेक्षा से उन्हें आप लोगों को कहना पड़ रहा है।

आहारचर्या के तुरंत बाद रवाना हो जाएंगे श्रद्धालु

दयोदय ट्रस्ट के अर्पित पाटोदी और महामंत्री अशोक डोशी ने बताया मांगलिक क्रिया के पहले मुनिश्री निस्वार्थ सागर महाराज ने सभी व्यवस्था को लेकर दिशा निर्देश दिए थे। अब आचार्यश्री का महापूजन ब्रह्मचारी सुनील भैया और ब्रह्मचारी पद्म भैया द्वारा किया गया। रोजाना ब्रह्मचारीजी द्वारा ही पूजन किया जाएगा। आहार चर्या कराने के लिए जो लोग यहां आते हैं, उन्हें सिर्फ आहार कराने के बाद यहां से रवाना होना होगा।

Source : Bhaskar


‘आपको अच्छा समय मिला है, एकांत में रहें’ (24/03/2020)

इंदौर। आप सभी को अच्छा समय मिला है, आप सब एकांत में रहो। अच्छा अवसर मिला है तो सोचो पुण्य-पाप का फल कैसे मिलता है? यह बात आचार्य विद्यासागर महाराज ने सोमवार को सांवेर रोड स्थित तीर्थोदयधाम पर कही। वे कोरोना वायरस से बचाव को लेकर समाजजन को दिशा निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि दुनिया की समझ में आ रहा है कि प्रकृति का खेल कैसा होता है?

आज करोड़ों की आबादी वाले देशों को समझ आ रहा है कि भारत की नीति अपने आप में बहुत पावन है। भारत ‘स्व’ के साथ ‘पर’ का भी ख्याल रखता है। वह इस बात का हमेशा ध्यान रखता है कि हमारी विजय से किसी भी अन्य देश को हानि नहीं पहुंचे।

आचार्यश्री विद्यासागर ने कहा कि विदेश के बड़े भवन, बड़ी योजनाएं काम नहीं आ रही हैं। उनके उत्पादन का जो ढेर है, उसे कोई पूछने वाला नहीं है। सारी मशीनें बंद पड़ी हैं। विमान, ट्रेन बंद हो गए हैं। स्पष्ट है कि अब उनसे फोकट में भी सामान लेने को कोई तैयार नहीं है। पेट्रोल अपने आप सस्ता होता जा रहा है।

अब जो भी है उसे बचाएरखो और संस्कारों को बचाए रखो। ब्रह्मचारी सुनील भैया और राहुल सेठी ने बताया कि आज आहार का सौभाग्य विमल अजमेरा परिवार को मिला। आचार्यश्री का पूजन मनीष नायक और राजेश लारेल परिवार ने किया। ब्रह्मचारी नितिन भैया ने संचालन किया। भरतेश बड़कुल ने आभार माना।

Source : Naidunia


(23/03/2020)

‘कोरोना की रोकथाम में सरकार को सहयोग दें’ (21/03/2020)

इंदौर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए जो कहा है, उस बात को आप सभी मानें। देश के सच्चे नागरिक होने के नाते आप खुद भी संक्रमित न हों और दूसरों को भी बचाएं। अहिंसा का पालन करें। सुखद वातावरण निर्मित करें। आपको स्वतंत्रता मिली है कि तभी आप बैठ कर धर्म ध्यान कर पा रहे हैं। सीमा पर सेना इसलिए लगी है कि अतिक्रमण न हो। सेना के लिए भी आपका सर्वप्रथम कर्तव्य है कि आपका सहयोग उन्हें मिले। साथ ही सरकार को भी सहयोग करें।

यह बात आचार्य विद्यासागर महाराज ने शुक्रवार को तीर्थोदय धाम सांवेर रोड पर कही। वे प्रवचनमाला में समाजजन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उद्योगपति और व्यापारियों से कहता हूं कि वे अपनी लक्ष्मी का सदुपयोग समय पर करते रहें। गांठ बांध कर न रखें, खोल दें। भामाशाह बन जाएं। जहां लगे बचाना है, वहीं बचाएं। जहां लगाना हो, वहीं लगाएं। कल क्या होगा, ये न सोचें। दान दिया है, इसका कई गुना ज्यादा आपको मिलने वाला है। एकत्र करने वालोंको हम आशीर्वाद नहीं देते। आप दान दें। हम आशीर्वाद देंगे।

ब्रह्मचारी सुनील भैया और कोषाध्यक्ष कमल सेठी ने बताया कि 22 मार्च को रेवतीरेंज में आचार्यश्री के सान्निाध्य में कोई आयोजन नहीं होगा। इस दिन जनता क्पर्यू को ध्यान में रखते हुए सुबह 7 बजे से पहले संतों की आहारचर्या के लिए परिवार को आना होगा। इसके बाद उन्हें रात 9 बजे तक तीर्थक्षेत्र पर ही रहना होगा।

Source : Naidunia


क़ोरोना से डरो मत (20/03/2020)

तीर्थोंदय धाम, प्रतिभा स्थली सावेर रोड पर आचार्य श्री १०८ विद्या सागर जी महाराज ने आज प्रवचन में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा जो क़ोरोना वायरस की रोकथाम के लिए कहा है उस बात को आप सभी मानो।

आचार्य श्री ने कहा की जो अहिंसा देवो की उपासना करता हो ऐसा राजा है, १३० करोड़ जनता का जिसमे संरक्षण हो रहा हो और वह नवरात्री की बात कर रहा हो और देवताओं का उपासक हो, अहिंसक हो। पहले के राजा अलग होते थे लेकिन यह राजा जो नेता होकर के भी जब अमेरिका देश गए तो निम्बू की शिकंजी ही ग्रहण करते हो तो आप लोग ध्यान रखो ऐसे धर्म ध्यान करने वाले शासक आपको मिले है, सारे अब अहिंसक हो रहे है। आप ही उन्हें चुन चुन कर भेजे है। प्रकोप से बचने के ये ही साधन है और कुछ नहीं।

उन्होंने कहा संकल्प रखो, संयम रखो। संयम रखने की जो बात कहता हो नेता होकर के भी तो आप लोगो के लिए ये तो आदर्श है। उनके लिए जो भी आवश्यक है, आप लोग मुक्त कंठ से, जैसे उन्होंने कहा कि मैं उद्योगपति और व्यापारियों को कहता हूँ वे अपनी लक्ष्मी का सदुपयोग यथोचित समय पर करते रहे, यह उनका अधिकार है उस लक्ष्मी पर और हमारा भी अधिकार है कि वे लक्ष्मी का सदुपयोग करे, गाँठ बाँध कर न रखे, खोल दे भामाशाह बन जाए, जहा लगे बचाना है वही बचाए और जहा लगाना हो वही लगाए। कल का क्या होगा ये न सोचे। दान दिया है, इसका कई गुना ज्यादा आपको मिलने वाला है। इकठ्ठा करने वालो को हम आशीर्वाद नहीं देते।

आप दान दे, हम खूब सारा आशीर्वाद देंगे। आप लोग उन्हें आश्वस्त करे की कोई चिंता न करे। हमारे पास पूर्व का अनुभव है जब 12 साल का अकाल का अनुभव हुआ था अतीत में तो बिना कुछ खाए पिए भी अरिहंत सिद्ध की उपासना की है तो ये ये हिंसा का तांडव नृत्य ज्यादा दिन तक टिकने वाला नहीं है, फिर भी यह प्रकृति का प्रलय उपद्रव है, इसको अच्छे ढंग से सहन कर संलेखना के लिए काम आने वाला है। ज्यादा खाने को नहीं कह रहे है वो, कह रहे की नपा तुला खाओ और आपका कर्त्तव्य है नागरिक होने के नाते की आप खूब भी संक्रमित न हो और दूसरों को भी बचाए, अहिंसा का पालन करे ऐसा वातावरण बनाए। आपको स्वतंत्रता मिली है तभी आप बैठ कर धर्म ध्यान कर पा रहे है। वहाँ जो बॉर्डर पर सेना लगी हुई है, अतिक्रमण न हो इसलिए वहाँ वे सुरक्षा कर रहे है, उस सेना के लिए भी आपका सर्वप्रथम कर्त्तव्य है कि सहयोग आपका उन्हें मिले, और सरकार को भी आप सहयोग करे क्योंकि जैनियों का इतिहास है उसको कायम रखने के लिए आपको हमेशा सहयोग करते रहना है। पूरा त्याग कर दो, ऐसा नहीं कह रहे है हम।

२२ मार्च को आचार्य श्री के यहा कोई आयोजन नहीं होगा
राहुल सेठी ने बताया कि प्रधान मंत्री मोदी जी द्वारा जो २२ मार्च को जनता कर्फ़्यू की घोषणा की गयी है। उसे ध्यान में रखते हुए दयोदय ट्रस्ट ने निर्णय लिया है की उस दिन कोई आयोजन नहीं होगा। ब्रह्मचारी सुनिल भैया द्वारा आज सुबह इस बात की घोषणा की गयी है। इसके साथ ही आहार चर्या में शामिल होने वाले परिवार को कहा गया है की उन्हें सुबह ७ बजे के पहले तीर्थोंदय धाम प्रतिभा स्थली सावेर रोड पर आना होगा, उसके बाद उन्हें रात ९ बजे तक वही रहना होगा। आचार्य श्री द्वारा जो प्रतिदिन आहार के पहले प्रवचन दिए जाते है वो भी नहीं होंगे। आज संचालन ब्रह्मचारी सुनिल भैया ने किया था और आभार अर्पित पटोदी व राजेश लारेल ने माना था।


शरीर को भी मशीन मानकर चलाओ तो उद्देश्य पूर्ण हो जाएगा : विद्यासागरजी (20/03/2020)

इंदौर। जब आपके बच्चे बड़े हो जाते हैं और आपसे कहते हैं कि अब हम दुकान जाएंगे तो आप उनकी सुन लेते हो। इतना ही नहीं ऊपर से दुकान ही उनके नाम से कर देते हो, ताकि आपकी परंपरा चले, लेकिन जब आप बच्चों से कहते हो कि संतों का अनुसरण करो, पूजन करो, दर्शन करो तो वो आपकी सुनते नहीं।

यह बात सांवेर रोड स्थित तीर्थोदय धाम प्रतिभा स्थली में गुरुवार को आचार्य विद्यासागर महाराज ने कही। उन्होंने कहा- जिस प्रकार हम गाड़ियों में पेट्रोल डालते हैं चलने के लिए, इसी प्रकार हमारे शरीर को भी मशीन मानकर चलाओ तो हमारा उद्देश्य पूर्ण हो जाएगा। आचार्यश्री का पूजन कालानी नगर बहुमंडल द्वारा किया गया। धर्मसभा का संचालन ब्रह्मचारी सुनील भैया ने किया।

Source : bhaskar.com


मांसाहार बढ़ने से ही कोरोना महामारी फैली : विद्यासागर (19/03/2020)

इंदौर। मांसाहार बढ़ने से कोरोना की महामारी फैली है। नेपाल में तीन-चार वर्ष पहले एक लाख गौवंश एकत्रित कर उनका वध किया गया था। इसके फलस्वरूप नेपाल में भूकंप आ गया। इसका अध्ययन करने लोग आते हैं। उस हाहाकार को देख उन लोगों ने कभी भी गोवध नहीं करने की प्रतिज्ञा ली। हमारे कर्म हमें सुख और दुख प्रदान करते हैं।

यह बात आचार्य विद्यासागर महाराज ने बुधवार को रेवती रेंज स्थित प्रतिभास्थली पर कही। वे धर्मसभा में श्रद्धालुओं को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार मांसाहार में वृद्धि हुई, उसी हिसाब से 160 देशों में यह बीमारी हो रही है। अब सब मांसाहार छोड़ने की बात कर रहे हैं। देखते हैं कितने छोड़ेंगे? ब्रह्मचारी सुनील भैया ने संचालन किया। सचिन जैन व मनीष नायक ने आभार माना।

31 मार्च तक श्रवणबेलगोला सहित कई बड़े तीर्थों पर दर्शन बंद :

जैन समाज के कर्नाटक स्थित श्रवणबेलगोला और महाराष्ट्र के ऋषभदेवपुरम मांगीतुंगी तीर्थ सहित कई बड़े तीर्थों पर दर्शन व्यवस्था कोरोना के चलते बंद कर दी गई है। मां पद्मावतीभ￿ मंडल के अतुल पाटोदी और राहुल सेठी ने बताया कि अलग-अलग राज्यों में जैन समाज के अनेक बड़े मंदिर हैं। इनमें कर्नाटक में श्रवणबेलगोला तीर्थ, ऋषभदेवपुरम मांगीतुंगी तीर्थ महाराष्ट्र, चिंतामणि पारसनाथ मंदिर कचनेर (औरंगाबाद, महाराष्ट्र) में दर्शन अब 31 मार्च बाद ही होंगे। इस बात की सूचना मंदिर की संचालन समितियों ने देशभर की जैन समाज की विभिन्न संस्थाओं को फोन पर दी है।

Source : Naidunia


‘जिसके यहां आहार हो रहा हो वह नियम का पालन करे’ (18/03/2020)

इंदौर। आप सभी प्रतिभास्थली के सेवक तो बन गए, लेकिन भागते क्यों हो? आपको भागना नहीं चाहिए, नीचे देख कर चलना चाहिए। दूसरे के आंगन में नहीं जाना चाहिए। जिनके यहां आहार हो रहा है वह नियम का पालन करें। यदि आपके भाव हो रहे हैं तो उससे भी आपको आहार का पुण्य लगता है।

मंगलवार को आहार का सर्वाधिक महत्व रहता है। यह बात आचार्यश्री विद्या सागर ने मंगलवार को प्रवचन के दौरान कही। मंगलवार को आदिनाथ भगवान की जन्म जयंती थी। मंगलवार के आहार का सौभाग्य निर्मल कासलीवाल और कैलाश वेद के परिवार को मिला। इधर, समाज के लोगों ने आचार्यश्री व अन्य मुनियों के कक्ष के बाहर संदेश लिखा जिसमें पैर नहीं छूने के लिए विनती की गई है।

बाल ब्रह्मचारी सुनिल भैया और राहुल सेठी ने बताया कि आचार्यश्री विद्यासागर के सान्निध्य में मंगलवार को प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ की जयंती मनाई गई। सांवेर रोड स्थित तीर्थोदय धाम, प्रतिभास्थली में सबसे पहले श्रीजी का कलश, सामूहिक शांतिधारा और पूजन किया गया।

Source : Naidunia


शुद्ध खाएं और गर्म पानी पीएं: आचार्य विद्यासागर (17/03/2020)

इंदौर। शुद्ध खाओ और गर्म पानी पियो तो नहीं होगा कोरोना। जंक और फास्ट फूड को मत खाओ। वही खाओ जो भारतीय संस्कृति में खाने योग्य है। फसल के लिए आप जो बीज बोते हो, वही फलित होते हैं जो उगने की क्षमता रखते हैं।

यह बात आचार्य विद्यासागर महाराज ने सोमवार को सांवेर रोड स्थित तीर्थोदय धाम पर कही। वे धर्मसभा में संबोधित कर रहे थे। ब्रह्मचारी सुनील भैया और ट्रस्ट के महामंत्री अशोक डोसी ने बताया कि कोरोना के निदान के लिए 80 मंदिरों में शांति विधान किया जा रहा है। हर शांति विधान समापन पर कपूर से हवन किया जा रहा है। आचार्यश्री को दिगंबर जैन मंदिर कल्याण भवन एमजी रोड के कासलीवाल परिवार ने श्रीफल अर्पित किया। आहार का सौभाग्य विशाल सोनिया जैन परिवार को मिला।

Source : Naidunia


कोरोना के कारण आचार्य विद्यासागर ने निरस्त की विशेष प्रवचनमाला (16/03/2020)

इंदौर। विज्ञान की सेवा अधिक करने वाले देश ही आज सबसे ज्यादा कोरोना की चपेट में हैं। कोरोना का उपचार एलोपैथी में नहीं, पांच हजार साल पहले लिखे आयुर्वेद ग्रंथ में है। इतिहास में जिन जैनाचार्यों ने आयुर्वेद की सेवा की, उनकी सराहना करनी चाहिए। आयुर्वेद से समझो कि खाने योग्य क्या है, जो अयोग्य है उसकी परीक्षा करके उससे दूर रहो। मांसाहार को त्यागो और जीवों पर करुणा रखो।

ये बात रविवार को आचार्य विद्यासागर महाराज ने रेवतीरेंज स्थित प्रतिभास्थली पर कही। वे समाजजनों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पहले किसी एक देश के कोने में महामारी होती थी तो उस समय लोग कहते थे कि भारत कुछ भूल रहा है, विज्ञान की सेवा कर लेनी चाहिए। हम वैज्ञानिकों से पूछना चाहते हैं कि आप विज्ञान की इतनी सेवा करते हैं, फिर भी इस बीमारी के कारण आज पूरा विश्व परेशान हो रहा है। विश्व में सबसे ज्यादा इसका प्रभाव पड़ा है तो वो मांसाहारी व्यक्ति पर।

इसीलिए चीन जैसे राष्ट्र ने भी कहा कि अब मांसाहार सेवन नहीं करेंगे। ब्रह्मचारी सुनील भैया और कोषाध्यक्ष कमल सेठी ने बताया कि रविवारको होने वाले विशेष प्रवचन निरस्त कर दिए। आचार्यश्री ने कहा कि जब सरकार सभी स्कूल-कॉलेज, सिनेमाघरों को बंद कर भीड़ को कम करने के प्रयास कर रही है तो हम प्रवचन के माध्यम से भीड़ क्यों एकत्रित करें?

तीन दिनी कचनेरजी यात्रा निरस्त :

महावीर जयंती पर 13 साल से निकाली जा रही दिगंबर जैन समाज के अतिशयकारी कचनेरजी की यात्रा को निरस्त कर दिया गया है। मां पद्मावती भक्त  मंडल के संयोजक तेजकुमार सेठी ने बताया कि यात्रा तीन दिन की होनी थी।

पुलक मंच पालना महोत्सव अब नहीं होगा :

कोरोना के चलते पुलक मंच परिवार ने 17 मार्च को मुकुट मांगलिक भवन में आयोजित पालना और फाग महोत्सव का कार्यक्रम निरस्त कर दिया। मंच के प्रदीप बड़जात्या और दिलीप पाटनी ने बताया कि लोगों के स्वास्थ्य की दृष्टि से यह निर्णय लिया गया है।

आचार्य दर्शन सागर का मंगल प्रवेश हुआ

इंदौर। आचार्य दर्शन सागर महाराज का ससंघ मंगल प्रवेश हुआ। वे सुसनेर से विहार कर इंदौर आए हैं। उनका मंगल प्रवेश जुलूस त्रिमूर्ति दिगंबर जैन मंदिर कालानी नगर पहुंचा। इस अवसर पर उनका पाद प्रक्षालन किया गया। उनके सान्निध्य में 4 अप्रैल सेपंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव होगा। राहुल सेठी ने बताया कि इस मौके पर दिगंबर जैन समाज सामाजिक संसद के अध्यक्ष नरेंद्र वेद, अध्यक्ष विमल बड़जात्या, कार्याध्यक्ष सुरेंद्र कलशधर, महामंत्री किशोर शाह, कल्पना गंगवाल आदि मौजूद थे।

Source : Naidunia


कोरोना से ज्यादा घातक राग-द्वेष का वायरस : आचार्य विद्यासागर (15/03/2020)

इंदौर। इन दिनों पूरा विश्व कोरोना वायरस से पीड़ित है। इस बीमारी सेखतरनाक राग द्वेष का वायरस होता है। यह बीमारी जिसे लग जाती है, उसका शरीर ही नहीं बचता है। निद्रा में भी व्यक्ति का पीछा राग-द्वेष करने की बीमारी नहीं छोड़ती है। फिर चाहे कितने शांति या अशांति विधान करो।

यह बात आचार्य विद्यासागर महाराज ने शनिवार को रेवतीरेंज स्थित प्रतिभास्थली पर धर्मसभा में कही। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचने के उपाय दो महीने से कई देश कर रहे हैं। अब कह रहे हैं कि हम अपनी वस्तु आपको नहीं बेचेंगे। अब स्वयं ने ही अपने-अपने राष्ट्र में कर्फ्यू घोषित कर दिया है। इस अवसर पर आचार्यश्री के सान्निाध्य में शांति- विधान किया गया। ब्रह्मचारी सुनील भैया कोषाध्यक्ष कमल अग्रवाल ने बताया कि महामारी की तरह फैल रही कोरोना बीमारी से बचने के लिए 15 मार्च से देश के साथ विभिन्ना स्थानों पर शांति विधान किए जाएंगे।

Source : Naidunia


नियम से धर्म का पालन नहीं करने के कारण कोरोना जैसी बीमारियां आ रहीं : विद्यासागरजी (12/03/2020)

इंदौर। सांवेर रोड स्थित प्रतिभास्थली के नए नाम तीर्थोदय धाम में आचार्य विद्यासागर महाराज ने गुरुवार को प्रवचनों में कहा कि आज पूरा विश्व कोरोना वायरस से दहशत में है। इसके पीछे कारण सिर्फ ऐसी संस्कृति है, जो नियम से धर्म का पालन नहीं करते हैं। यह बीमारी महामारी बन चुकी है। अब तो सुनने में आ रहा है कि पंजाब में नशे की लत ज्यादा लग रही है। संस्कारविहीन लोग उस ओर जा रहे हैं। इसके लिए संस्कार सही होना जरूरी है। ब्रह्मचारी सुनील भैया ने बताया महामांगलिक पूजन का सौभाग्य प्रतिभा स्थली की छात्राओं और बरेली से आए श्रद्धालुओं को मिला।

Source : Bhaskar

प्रवचन वीडियो

2020 : विहार रूझान

मेरी भावना है कि संत शिरोमणि विद्यासागरजी महामुनिराज का विहार इंदौर में यहां होना चाहिए :




5
24
1
20
17
View Result

कैलेंडर

april, 2020

No Events

hi Hindi
X
X