जैन धर्म से जुड़ी धार्मिक गतिविधियों की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं?

नियमित सदस्य बनकर पाएं हर माह एक आकर्षक न्यूज़लेटर

सदस्यता लें!

हम आपको स्पैम नहीं करेंगे और आपके व्यक्तिगत डेटा को सुरक्षित बनाएंगे

आचार्यश्री की जानकारी अब Facebook पर Youtube - आचार्यश्री विद्यासागरजी के प्रवचन देखिए Youtube पर आचार्यश्री के वॉलपेपर Android पर शाकाहारी रेस्टोरेंट Android पर दिगंबर जैन टेम्पल/धर्मशाला Android पर देश और विदेश के जैन मंदिरों एवं जिनालय की जानकारी के लिए www.jaintemple.in विजिट करें Apple Store - शाकाहारी रेस्टोरेंट आईफोन/आईपैड पर Apple Store - जैन टेम्पल आईफोन/आईपैड पर Apple Store - आचार्यश्री विद्यासागरजी के वॉलपेपर फ्री डाउनलोड करें देश और विदेश के शाकाहारी जैन रेस्तराँ एवं होटल की जानकारी के लिए www.bevegetarian.in विजिट करें

यादें विद्याधर की

विश्व वंदनीय आचार्यश्री 108 विद्यासागरजी महाराज के बचपन की यादें


शिशु सौन्दर्य
एक दिन घर पर लगाये गये नन्हे बगीचे में एक खाट पर लेटे हुए मात्र साल भर के ‘पीलू’ को देखा, जो दिगम्बर अवस्था में पडा अपना अंगुठा चूस रहा है। कमर में चान्दी की करधनी बँधी शोभा बिखेर रही है। नन्हे शिशु की छवि देखते ही बनती थी।

बलपना
एक तीर्थ की वेदी पर पिता ने बादाम चढाए और माथा टेककर झुके।फिर नजर बचा कर जेब से दोनो बादाम निकाल कर रख दी वापिस वेदी पर। पीलू ‘त्यै’ बोलने में मस्त रहे।

बिच्छू ने डंक मारा
घर के भीतर वाली देहलीज पर हाथ रख कर बैठा था पीलू, दूसरे हाथ का अंगूठा मुँह में था। अंगुठे में जाने कैसी मिठास थी के पीलू चाहे जब चूसता रहता था। उस दिन भी वह चूसने का आनन्द ले रहा था। सिर की झालर फरफरा रही थी। आँखें मोतियों की तरह चमक रही थीं। छोटे छोटे हाथ कभी मुँह की तरफ, कभी देहलीज की तरफ उठते-गिरते। तभी जोर से चीख पडे पीलू। चीख के बाद रोने क भी क्रम था। रोने में तडपन और तडपन में घबराहट भी थी। दौडा हुआ परिवार आया, देखा बिच्छू ने काटा है।

बाल खरीददार
मल्लप्पा जी ने 5 क नोट दिया, पहुँचे पीलू सीधे दुकानदार के समक्ष – चॉकलेट खरीदने। दुकानदार ने चार आने की चॉकलेट दे दी।

बाल छात्र
पाँच वर्ष के पीलू। पिताजी उसे ले कर शाला में नाम लिखवाने पहुँचे। आँखे फाडे-फाडे पीलू कमरे को देखता, तो कभी छात्र समूह को, कभी सामने कक्ष की दीवाल पर टँगे श्यामपट को। तभी लिखने लगे प्रधान अध्यापक रजिस्टर पर नाम, बालक पीलू अब छात्र विद्याधर बन गये।

अध्ययन में बाल छात्र
विद्या प्रवेश कर गये विद्या मन्दिर की पहली कक्षा मे। मन लगा कर विद्यार्थियों जे बीच पढने लगे। देखते ही देखते पहली से दूसरी, दूसरी से तीसरी तथा तीसरी से चौथी कक्षा में पहुँच गये।

सबसे बडा श्रोता : नन्हा श्रावक
मल्लप्पा जी ज शास्त्र बाँचने बैठते मन्दिर में, तो वृद्ध, प्रौढ, युवक श्रावकों के मध्य एक नन्हा श्रावक भी हुआ करता। नन्हा श्रावक सीधा मल्लप्पा जी के पास पहुँचता और कोई ना कोई प्रश्न जड देता।कभी तो मल्लप्प जी उत्तर देते, कभी कह देते- पीलू बेटे घर चल कर बतलायेंगे।

अपनी वाणी से जिनवाणी
माँ ने कहा- स्चूल की पढाई के साथ थोडी धार्मिक पढाई भी किया कर! देख सामने आले में जैन धर्म की पुस्तक रखी है, उसमे भक्तामर याद करके बता! प्रसन्न हो गये तोता। उठा कर ले आये जिनवाणी। कुच दिन बाद बोले- माँ जी भक्तामर सुनोगी! मुझे कंठस्त हो गया है। उन्होने कहा- सुना भला! इतना कहा नहीं कि सुनाने लगे तोता अपनी वाणी से जिनवाणी।

खेल खेल में मुनि दर्शन
तोता दौड्ते हुए वहाँ पहुँच गये। अपनी गिल्लि उठा कर भागनेवाले थे कि उनकी नजर गुफा के अन्दर चली गयी। व्हा एक दिगम्बर साधु स्वाध्याय पूर्ण कर उठ ही रहे थे।

प्रयास की कथा
घर आये तो देखा कि माँ दही मथने की तैयारी कर रही है। मक्खन उठा कर दे देती। मक्खन क्या है? दही का सार तत्व ही है ना? विद्याधर की दृष्टि कभी थोथे पर नहीं रही, सार चाहने वाला यह किशोर एक दिन सारे संसार को सार का दिग्दर्शन करायेगा, कौन जानता था?

मूँजी- बन्धन
दक्षिण भारत की परम्परा के अनुसार वहाँ 12 वर्ष तक के बच्चों को एक विशेष संस्कार से संस्कारित किया जाता है, जिसे मूँजी- बन्धन कहते हैं। इसके अनुसार 12 वर्ष या उससे उपर उम्र के किशोर मूँजी-बन्धन के दिन उपवास करते हैं, नाई से बाल कटाते हैं, चोटी रखते हैं, सफेद धोती पहनते हैं, कन्धे पर दुपट्टा डालते, फिर सात घर जा कर भिक्षा माँगते हैं। भिक्षा से प्राप्त अन्न से भोजन बना लेते हैं और अन्य कुच नहीं खाते हैं।

सब कुछ छोड कर प्रसन्न होने का आभास
नहीं मालूम था उस क्षण मल्लप्पा जी को, नहीं ज्ञात था श्री जी को के हेंडल छोड कर साइकल चलाने वाले हाथ, एक दिन हँसते-हँसते यह घर-बार, सांसारिकता भी छोड देंगे।

दयालु श्रमशील बालक
धैर्यवान मुस्कुराये और बोले- ऐसा। बैल के स्थान पर वे खडे हो गये थे और हल का जुँआ अपने पुष्ट स्कन्ध पर धर लिया था। बोले व्यर्थ चिंता मत करो, कार्य चल जायेगा। काफी देर बैल के स्थान पर हल खींचते रहे। श्रम, लगन, दया, कर्तव्य के कई रंग देखने को मिले- मिलेंगे उनकी चर्या में।

मुनि सेवा और मंत्र उच्चारण
एक बार बोरगाँव से खबर उठी कि मुनि श्री नेमिसागर जी ने समाधी – मरण स्वीकार कर सल्लेखना व्रतसमाधि ले ली है। नेमिसागर जी को णमो मंत्र सुनान प्रारम्भ कर दिया विद्याधर ने।

बुद्धि का खेल: सेवा भाव
र्क रात की बात है। अचानक श्री देशभूषण जी महाराज को बिच्छू ने डंक मार दिया। फिर क्या, दर्द –कम्पन शरीर में होने लगा। और दौडते हुए हाजिर हो गये महाराज के समक्ष। दवा के द्वारा डंक का दर्द दूर किया, फिर आराम हुआ।

पानी में बाल भानु : ध्यान मुद्रा
सदलगा में विद्याधर के घर के पास ही बावडी बनी थी। वे कभी कभी उस में पालथी मारकर, पानी में आसन लगाकर ध्यान किया करते थे।जब माँ ने प्रश्नरूपी कंकड उछाला तब थोडे से हिले, बोले मैं आसन लगा कर ध्यान करता हूँ।

जैन प्रतीकों में रुचि
विद्या कभी मेले में जाते, तो कभी पंचकल्याणक मे, तो कभी मुनि-संघ के दर्शनों के लिये। और बोलने लगा- लो माँ! मैं आपके लिये भगवान लाया हूँ। और खुद भगवान बनने वचल पडा, माँ उधर हिलाती हुए सोचती है।

धर्म शिक्षक
बालक विद्याधर की चिंतन प्रक्रिया स्वस्थ होने से 14-15 वर्ष की इस बाल उम्र, अल्प आयु में अपनी ही भाई-बहन को धर्म की शिक्षा दे, सहस्त्र नाम, भक्तामर, तत्त्वार्थसूत्र आदि का पाठ पढाने लगे।

रेल यात्री- संयमी यात्री
दक्षिण का युवक उत्तर भारत की ओर लम्बाई लाँघता-फलांगता बॉम्बे सेंट्रल पहुँच गया।
यहाँ से ट्रेन बदल कर अजमेर जाना था। प्रतीक्षा करनी होगी। स्टेशन के एक कक्ष के समक्ष बोर्ड पर लिखा था – प्रथम श्रेणी के यात्रियों के लिये प्रतिक्षालय। वही अखबार था टेबल पर। उठा कर पढने लगे। तबतक वहाँ का कर्मचारी आ गया। भूखे-प्यासे विद्या के चेहरे पर उस  समय दैन्यता झलक रही थी। कर्मचारी पूछ बैठा- टिकट? विद्याधर ने पॉकेट से टिकट निकाल कर बतला दी। कर्मचारी के कहने पर, यह तो तृतीय श्रेणी यात्रियों ले प्रतीक्षालय के योग्य थर्ड क्लास का टिकट है। फिर क्या, प्रथम को ठुकरा कर तृतीय का गौरव बढाने वाले विद्याधर इस कक्ष के लिये नये नहीं थे, कभी महात्मा गाँधी भी इसी परम्परा में उस कक्ष को अपना स्पर्श दे गये थे। ऐतिहासिक हो गया वह कक्ष। वह प्लेटफार्म। वस स्टेशन्।

त्याग के साथ गुरु दर्शन
स्नान, दर्शन, पूजन, भोजन सम्पन्न हुआ। अजमेर की धरती पर विद्याधर, फिर दुरुवार के दर्शन करने चल पडे मदनगंज- किशनगढ की ओर। प्रथम दर्शन यहीं हुए पू. मुनिवर श्री ज्ञानसागर जी को नजर भरकर देखा ज्ञानसागर जी ने विद्याधर जी की ओर। पूछ बैठे- क्या नाम है तुम्हारा? जी मैं विद्याधर हूँ… तुम विद्याधर हो? मुस्कुराये… फिर बोले, तो विद्या सीख कर उड जाओगे, विद्याधरों की तरह। फिर मैं श्रम क्यु करु? नहीं महाराज नही। मैं उडने नहीं आया, मैं रमने आया हूँ। ज्ञानसागर जी के चरणरज में रमने। विश्वास करें, मैं ज्ञानार्जन कर भागुंगा नहीं। कुच पल रोक कर बोले – विद्य्ताधर मुनिवर से, यदि आपको मेरी बातों पर विश्वास नहीं हैतो मैं सपथ लेता हूँ, आज से ही आजीवन सवारी का त्याग करता हूँ। जरा सी बात में महान त्याग।

गुरु शिक्षा
अध्ययन की लगन देख कर अब धीरे धीरे मुनिवर ज्ञानसागर जी विद्याधर को पढाने हेतु समय देने लगे। पहले थोडा, फिर अधिक, फिर और अधिक। कुछ माह चार घंटे से ले लर आठ घंटे तक पढाने लगे।

मुख से जिनवाणी
दशलक्षण पर्व प्रारम्भ हो चुका था। पू. ज्ञानसागर जी ने विद्याधर से कहा-तत्त्वार्थ-सूत्र का पाठ करो। विद्याधर को सूत्र अच्छी तरह से याद थे। अतः वहीं बैठ कर उन्होने बोलना प्रारम्भ किय। ज्ञानसागर जी परेशान थे के इसने हाथ में पुस्तक नहीं ली, अब बीच में फिर उठना पडेगा इसे पुस्तक के लिये। पर ये तो लगातार मौखिक बोलते चले गये।

गुरु सेवा
एक दिन पू. ज्ञानसागर जी के गले में दर्द हुआ। विद्याधर जाने कैसे जान गये।मुनिवर ज्ञानसागर जी ने कहा- तेरे हाथों में जादू है। लगत है तू वैद्य बन कर आया है, मेरी सेवा के लिये। सेवा और संकल्प की गंगा उनके जीवन में नित्य बहा करती थी।

पिच्छिका निर्माता
एक दिन पारस पारखी, गुरुवार ज्ञानसागर जी महाराज ने चुपके से अपनी पिच्छी के पंख बिखेर दिये और सहज हो कर बोले- विद्याधर! इस पिच्छिका को पुनः बना सकते हो? न शब्द वहाँ था ही नहीं, सो हाँ कह दिया और विद्याधर ने शास्त्रों में वर्णित विद्याधरों की तरह शीघ्र पीछी बना डाली। गुरु जी ने पीछी देखी और देखते ही कह दिया- ‘ब्रह्मचारी, आपका ज्ञान सही में पीछी लेने योग्य हो चुका है।’

संकलन- सुशीला पाटनी
आर. के. हाऊस
मदनगंज- किशनगढ

__________________________________________________________________________________________

संस्मरण

कीर्ति
आचार्यश्री का इतना यश इसलिए है क्योंकि उन्होंने कभी किसी की निंदा नहीं की, प्रतिकार तक नहीं करते हैं।
– मुनि श्री कुंथुसागर जी

शरीर
पं. श्री दरबारीलाल जी कोठिया न्यायाचार्य के समाधिमरण के दौरान उन्होंने आचार्यश्री को बताया की शरीर बहुत तंग कर रहा है।
आचार्यश्री – आप तो न्यायाचार्य हैं जो शरीर ने आपके साथ किया, वही आप उसके साथ कीजिए।

– मुनि श्री कुंथुसागर जी

निर्मोह
आचार्यश्री से किसी ने पूछा – आपके इतने चाहने वाले हैं, सब आपको याद करते रहते हैं तो आपको हर समय हिचकी आती रहती होगी?
आचार्यश्री – हिचकी तो तब आती है जब दोनों ओर से याद किया जाए।।

भाषा समिति
आचार्यश्री विद्यासागर जी कभी भी अपने शिष्यों की गलतियों को बताते नहीं, सिर्फ इशारा कर देते हैं।
शिष्य खुद गलती स्वीकार कर प्रायश्चित माँगें, तब देते हैं।

उत्तम ब्रम्हचर्य धर्म
* जनसंख्या की वृद्धि रोकने के लिए परिवार नियोजन की जरूरत नहीं, पाप के नियोजन की जरूरत है।
* वासना ही है जो उपासना और आत्मा की साधना में बाधक है।
* ब्रम्हचर्य की रक्षा कैसे की जाए?
* स्वाध्याय, ध्यान, संयमीयों का सत्संग, शील पालन में सहायक होता है।
* नशा, अपशब्द, शरीर का श्रंगार ये बाधक होते हैं।
* ब्रम्हचर्य कवच है, ये किसी तरह के भी दोष नहीं आने देता।
(जैसे मूंगफली में तेल होता है तो उसमें विषाणु नहीं आते, इसी प्रकार ब्रम्हचर्य का तेज शरीर के रोम रोम में हो जाता है, उसमें किसी तरह के रोग या विकार नहीं आ पाते हैं – चिंतन)
– आचार्यश्री विद्यासागर जी

* 1995 के बीना-बारहा में आचार्यश्री के चातुर्मास में तीन विदेशी लोग आए,उन्होंने पूछा – इतनी कम उम्र में आप ब्रम्हचर्य कैसे रख पाते हैं जबकि आपके आसपास तमाम स्त्री और युवा लड़कियाँ आहार के समय आपको घेरे रहतीं हैं?

* बच्चा जब काफी बड़ा हो जाता है तब तक उसकी माँ और बहनें उसे नहलाती रहतीं हैं,
(जब आदमी बूढ़ा हो जाता है तब भी बेटी और बहनें उसे नहलाती हैं) तो उनको विकार आता है क्या?
मैं हर स्त्री में माँ, बहन और बेटी देखता हूँ तो मुझे विकार कैसे आएंगे?
विदेशी बोले – महावीर के बारे में पढ़ा तो बहुत था पर देखा आज।

* माली का काम सिर्फ उगाना ही नहीं उन्हें भगवान के चरणों तक पहुँचाना भी है।
हम गृहस्थों का काम सिर्फ बच्चों की उत्पत्ति ही नहीं, उनको भगवान के चरणों तक ले जाना भी है।
आज गृहस्थी पाँच पापों की नाली बन गयी है, गृहस्थी में रहते हुए ये पाप ना भी बहें, हमारे अंदर तक बदबू तो कम से कम आएगी ही।

* रति वे करते हैं जो काम के रोगी हैं, कुत्ता/चील भी शरीर में रति करते हैं पर वो क्षुधा के रोगी हैं, हम काम के रोगी हैं।
मुनि श्री कुन्थुसागर जी

दीक्षा
आचार्यश्री विद्यासागर जी को उनके गुरू आचार्यश्री ज्ञानसागर जी जब 22 साल की उम्र में दिगम्बर मुनि बना रहे थे तब समाज वाले उनके पास समझाने पहुँचे कि इतनी कम उम्र में दीक्षा न लें।
आचार्यश्री – वैराग्य तो अंतरंग प्रक्रिया है जो हो चुकी है, अब तो बाह्य औपचारिकता रह गयीं हैं।

निर्वाण दिवस
दीपावली की पहली रात को आचार्यश्री ध्यान में बैठे और सुबह जब बाकी साधु और श्रावक लोग आए तो देखा कि आचार्यश्री की आँखें लाल थीं और अश्रुधारा बह रही थी। लगता था आचार्यश्री पूरी रात सोये नहीं थे और ध्यान मुद्रा में ही बैठे रहे।

पूंछने पर बताया – देखो ! महावीर भगवान आज ही सुबह अपना कल्याण करके मोक्ष पधारे थे, पता नहीं हमारा कल्याण कब होगा?

सकारात्मक सोच
एक विद्यार्थी C.A. में तीन बार फेल होकर आचार्यश्री विद्यासागर जी के पास बड़ा निराश होकर आया।
आचार्यश्री – तुम्हारा अनुभव तो बढ़ा न?

– आचार्यश्री विद्यासागर जी

शांति
किसी ने पूछा – घर में बहुत अशांति रहती है, क्या करें?
आचार्यश्री – मन में शांति रखो।

अतिथि संविभाग
आचार्यश्री एक बार किसी गरीब के घर आहार के लिए गए, रोटियों के बर्तन में 6 रोटियाँ थीं, उन्होंने 2 रोटी खाने के बाद अंजुली छोड़ दी। ताकि चौके वाले पति-पत्नि को उनके हिस्से की 2-2 रोटियाँ मिल सकें।

दुनिया
आचार्यश्री विद्यासागर जी के संघ का विहार चल रहा था, बाहर कहीं एक गाना चल रहा था, “दुनिया बनाने वाले क्या तेरे मन में समायी, तूने काहे को दुनिया बनायी”,
आचार्यश्री विद्यासागर जी ने कहा कि ऐसे कहो “दुनिया बसाने वाले क्या तेरे मन में समायी, तूने काहे को दुनिया बसायी”।

घृणा
आचार्यश्री दुसरे मुनिराजों के साथ शौच के लिए जाते थे वहां पर कचड़े का ढ़ेर था और उससे बहुत दुर्गंध आती थी। मुनिराजों ने आचार्यश्री से शौच का स्थान बदलने के लिए निवेदन किया।
आचार्यश्री – इसी गंदगी से तो हम सब पैदा हुए हैं, इससे घ्रणा कैसी?
(श्रीमति प्रतिभा)

सलाह
महुआ चातुर्मास के दौरान पूरी रात पूजा की गई और विधि पूर्वक नहीं की गई।
आचार्यश्री से निवेदन किया गया कि आप इसे रोकें।
आचार्यश्री – कोई पूछेगा तो बोलुंगा।
पं. रतनलाल बैनाडा जी

सावधानी
विहार करते समय आचार्यश्री ने कहा -यदि पट्टी (सड़क पर खींची सफेद पेंट की लाईन) पर चलोगे तो पट्टी नहीं बंधेगी (पैरों पर)।
( सड़क के बीच में कांटे भी नहीं होते हैं और पेंट की वजह से वहां सड़क Smooth तथा गर्मीयों में गर्म भी कम होती है )

अहिंसा
S. L. भाई ने आचार्यश्री से पूछा कि अमेरिका के राष्ट्रपति ओबामा इतनी छोटी परिस्थितियों से उठ कर इतनी बड़ी जगह कैसे पहुंच गए?
आचार्यश्री – सुना है वो गले में किसी हिन्दु भगवान की फ़ोटो लटकाते हैं, इसका मतलब अहिंसा में विश्वास रखते हैं, यह भी अपने आप में एक बड़ा कारण हो सकता है।
वैसे कर्म प्रक्रिया बड़ी जटिल है इसे समझना कठिन है।

(सौजन्य : मैत्री समूह)

20 Comments

Click here to post a comment

कैलेंडर

december, 2017

28jun(jun 28)7:48 am(jun 28)7:48 amसंयम स्वर्ण महोत्सव

काउंटडाउन

X