समय सागर जी महाराज कुण्डलपुर (दमोह) में हैं।सुधासागर जी महाराज बिजोलिया (राजस्थान) में हैंयोगसागर जी महाराज (ससंघ) छिंदवाड़ा में हैं...मुनिश्री प्रमाणसागरजी महाराज नेमावर में हैं... आचार्यश्री की जानकारी अब Facebook पर Youtube - आचार्यश्री विद्यासागरजी के प्रवचन देखिए Youtube पर आचार्यश्री के वॉलपेपर Android पर शाकाहारी रेस्टोरेंट Android पर दिगंबर जैन टेम्पल/धर्मशाला Android पर देश और विदेश के जैन मंदिरों एवं जिनालय की जानकारी के लिए www.jaintemple.in विजिट करें

मंगल प्रवचन- आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज

कुंडलपुर। व्यक्ति सम्यगदृष्टि सम्यगज्ञान के माध्यम से सिद्धांत के बलबूते अपने मोक्ष मार्ग के लिए कार्य करता रहता है। परोक्ष में भी प्रत्यक्ष का दर्शन किया जा सकता है। ज्ञानी लोग अपनी धारणा, अनुभूति एवं आस्था के माध्यम से बड़े-बड़े कार्य कर जाते हैं।

परोक्ष में रहते हुए भी चिंतन-मनन से भगवान का ध्यान करते रहते हैं और दूसरों को भी प्रोत्साहित करते रहते हैं। उपदेशों का प्रचार-प्रसार करते जाओ, धर्म की प्रभावना होती जाएगी। गुरुओं ने जो ग्रंथ लिखे, वे आज भी पृष्ठ खोलते ही आत्मा और परमात्मा का स्वरूप हमारे सामने रख देते हैं।

उपरोक्त उदगार आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज ने प्रात:काल कुंडलपुर में अपने उद्धबोधन में अभिव्यक्त किए। इसके पूर्व आचार्यश्री की पूजन प्रतिमा स्थली से आई बहनों के द्वारा सामूहिक रूप से संपन्न की गई। इसके पश्चात आचार्यश्री को नवधा भक्ति के साथ आहार प्रदान करने का सौभाग्य शाकाहार उपासना परिसंघ एवं कुंडलपुर कमेटी के वरिष्ठ सदस्य महेश बड़कुल को प्राप्त हुआ।

आचार्यश्री ने आगे कहा कि मोक्ष मार्ग में प्रत्यक्ष ज्ञान नहीं होते हुए भी सुनकर आप अनुभव कर लेते हैं। सांसारिक कार्यों में भी हम पुरानी बातों को याद करके प्रत्यक्षवत अनुभव करते रहते हैं। इसी तरह मोक्ष मार्ग में भी हम उसी क्षेत्र अथवा उसी वस्तु का अनुभव कर सकते हैं, जो आत्मा की ओर ले जाए। परोक्ष में भी प्रत्यक्षवत अनुभव करना ये श्रद्धा व चिंतन-मनन के आधार पर संभव है। यदि कोई व्यक्ति बूढ़ा है और वह बड़े बाबा का चिंतन करता है तो जवान व्यक्ति से भी पहले वह बड़े बाबा के चरणों में पहुंच सकता है। उसे बड़े बाबा के दर्शन आंखें बंद करने के साथ ही हो जाते हैं।

आचार्यश्री

23 नवंबर 1999 को आचार्यश्री का इंदौर से विहार हुआ था। तब से अब तक प्रतीक्षारत इंदौर समाज

2019 : विहार रूझान

मेरी भावना है कि संत शिरोमणि विद्यासागरजी महामुनिराज का विहार नेमावर से यहां होना चाहिए :




5
24
20
17
4
View Result

कैलेंडर

december, 2019

अष्टमी 04th Dec, 201904th Dec, 2019

चौदस 11th Dec, 201911th Dec, 2019

अष्टमी 19th Dec, 201919th Dec, 2019

चौदस 25th Dec, 201925th Dec, 2019

hi Hindi
X
X