जैन धर्म से जुड़ी धार्मिक गतिविधियों की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं?

नियमित सदस्य बनकर पाएं हर माह एक आकर्षक न्यूज़लेटर

सदस्यता लें!

हम आपको स्पैम नहीं करेंगे और आपके व्यक्तिगत डेटा को सुरक्षित बनाएंगे

आचार्यश्री की जानकारी अब Facebook पर Youtube - आचार्यश्री विद्यासागरजी के प्रवचन देखिए Youtube पर आचार्यश्री के वॉलपेपर Android पर शाकाहारी रेस्टोरेंट Android पर दिगंबर जैन टेम्पल/धर्मशाला Android पर देश और विदेश के जैन मंदिरों एवं जिनालय की जानकारी के लिए www.jaintemple.in विजिट करें Apple Store - शाकाहारी रेस्टोरेंट आईफोन/आईपैड पर Apple Store - जैन टेम्पल आईफोन/आईपैड पर Apple Store - आचार्यश्री विद्यासागरजी के वॉलपेपर फ्री डाउनलोड करें देश और विदेश के शाकाहारी जैन रेस्तराँ एवं होटल की जानकारी के लिए www.bevegetarian.in विजिट करें

महावीर भगवान की जय

महावीर भगवान की जय

ज्ञान भरे इंसान की जय, इंसान में महान की जय।

सत्य-अहिंसा-प्रेम-प्रदाता, महावीर भगवान की जय॥

‘बिहार’ के होकर बिहार के विहार से कतराते हैं।
’वैशाली’ के थे इस कारण वय-शाली हो जाते हैं।
’कुण्डग्राम’ से धराधाम पर जग अभिराम बनाते हैं।
वृद्धिमान हो ‘वर्द्धमान’ में महावीरता पाते हैं।

त्रिशला की संतान की जय, सुत-सिद्धार्थ सुजान की जय

सत्य-अहिंसा-प्रेम-प्रदाता, महावीर भगवान की जय॥

‘श्रमण-बन्ध’ द्वारा ‘निगण्ठ’ यदि घोर तपस्या धारी है।
सहज भाव से सद् गृहस्थ भी धर्म ध्यान अधिकारी है।
श्रद्धा के अनुसार सभी ‘जिन’ के आलोक पुजारी हैं।
त्रिलोक की क्या, लोक-लोक परलिक सभी आभारी हैं।

धर्म धुरी ध्रुवमान की जय, पावन पथ प्रस्थान की जय।

जड चेतन तक जैन धर्म के विश्वविदित अभियान की जय।

सत्य-अहिंसा-प्रेम-प्रदाता, महावीर भगवान की जय॥

सबसे बढकर दुख, दुनिया में जन्म मरण का होना है।
कारण केवल कर्म, कर्म-फल का हर बोझा ढोना है।
कर्म फलों के मूल रूप में मन के अंकुर बोना है।

मन हिंसा का मूल, सभी कुछ मन का रोना धोना है।

जन-जीवन-जलयान की जय, संयम-सिन्धु सुजान की जय।
जन्म-मरण के रहस्य भेदी, कर्मठ-कर्म-विधान की जय।

सत्य-अहिंसा-प्रेम-प्रदाता, महावीर भगवान की जय॥

सम्यक दर्शन, ज्ञान, चरित्र, अगर जीवन में आते हैं।
प्रपंच तज, यदि पंच-वृत को श्रद्धा से अपनाते हैं।

मुख्य रूप से अगर अहिंसा-परमो धर्म निभाते हैं।

तो भवसागर तज कर प्राणी सहज मोक्ष पद पाते हैं।
पंच-वृत-परिधान की जय, रत्नत्रय की खान की जय।
ब्रह्मचर्य-अस्तेय-अहिंसा-सत्परिग्रह परिणाम की जय।
सत्य-अहिंसा-प्रेम-प्रदाता, महावीर भगवान की जय॥

– कवि सम्राट निर्भय हाथरसी, हाथरस

कैलेंडर

december, 2017

28jun(jun 28)7:48 am(jun 28)7:48 amसंयम स्वर्ण महोत्सव

काउंटडाउन

X