समय सागर जी महाराज कुण्डलपुर (दमोह) में हैं।सुधासागर जी महाराज बिजोलिया (राजस्थान) में हैंयोगसागर जी महाराज (ससंघ) छिंदवाड़ा में हैं...मुनिश्री प्रमाणसागरजी महाराज बावनगजा (बडवानी) में हैं आचार्यश्री की जानकारी अब Facebook पर Youtube - आचार्यश्री विद्यासागरजी के प्रवचन देखिए Youtube पर आचार्यश्री के वॉलपेपर Android पर शाकाहारी रेस्टोरेंट Android पर दिगंबर जैन टेम्पल/धर्मशाला Android पर देश और विदेश के जैन मंदिरों एवं जिनालय की जानकारी के लिए www.jaintemple.in विजिट करें

भारत के सबसे ऊँचे ६५ फीट के कीर्ति स्तम्भ का लोकार्पण

आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज के ‘५०वें दीक्षा संयम स्वर्ण महोत्सव’ के उपलक्ष्य में समस्त पाटनी परिवार (आरके मार्बल्स) द्वारा फव्वारा सर्किल स्थित बड़े धड़े की नसियां, जिला अजमेर, राजस्थान में ६५ फीट ऊँचे कीर्ति स्तम्भ का निर्माण कराया गया है।

 

इस कीर्तिस्तम्भ का लोकार्पण

  • मुनिश्री सुधासागरजी महाराज
  • मुनिश्री महासागरजी महाराज
  • मुनिश्री निष्कम्पसागरजी महाराज
  • क्षुल्लकश्री गंभीरसागरजी महाराज
  • क्षुल्लकश्री धैर्यसागरजी महाराज

के पावन सानिध्य में, श्री कंवरीलालजी पाटनी, श्री अशोकजी पाटनी, श्री सुरेशजी पाटनी, श्री विमलजी पाटनी एवं समस्त पाटनी परिवार और अन्य गणमान्य श्रावकों द्वारा ३० जून २०१८, शनिवार को किया जाएगा।

कीर्ति स्तम्भ की विशेषता

  • यह कीर्ति स्तम्भ आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज की दीक्षा भूमि पर स्थित है।
  • इस कीर्ति स्तम्भ पर आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज के जन्म से लेकर बाल्यकाल, किशोरावस्था, दीक्षा एवं संयम जीवन के अनेक जीवन वृतांत पत्थर में उत्कीर्ण किए गए हैं।
  • इस कीर्ति स्तम्भ पर आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज द्वारा शिष्यों को दी गई दीक्षा के दृश्यों को भी पत्थर में तराशा गया है।
  • इस कीर्ति स्तम्भ पर आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज का पूर्ण जीवन परिचय भी तराशकर लिखा गया है।
  • यह कीर्ति स्तम्भ मुनिश्री सुधासागरजी महाराज की प्रेरणा और आशीर्वाद से बनाया गया है।
  • इस कीर्ति स्तम्भ पर अद्वितीय नक्काशी और शिल्पकला का सृजन किया गया है।
  • यह कीर्ति स्तम्भ भारत का सबसे ऊँचा कीर्ति स्तम्भ है।
  • इस कीर्तिस्तम्भ की नींव (फ़ाइल फाउंडेशन) जमीन के नीचे ४५ फीट तक है।
  • यह कीर्ति स्तम्भ बयाना भरतपुर के बंसी पहाड़पुर के पत्थर (पिंक स्टोन) से बनाया गया है।
  • इस कीर्तिस्तम्भ के निर्माण में एक वर्ष का समय लगा।

आप सभी श्रावक इस कीर्ति स्तम्भ के लोकार्पण के कार्यक्रम में सहभागी होकर पुण्यार्जन करें

हम समस्त पाटनी परिवार के इस पुण्य कार्य की अनुमोदना करते हैं एवं समस्त पाटनी परिवार को जैन समाज की ओर से शुभकामनाएं और बधाई।

आचार्यश्री

23 नवंबर 1999 को आचार्यश्री का इंदौर से विहार हुआ था। तब से अब तक प्रतीक्षारत इंदौर समाज

2019 : विहार रूझान

मेरी भावना है कि संत शिरोमणि विद्यासागरजी महामुनिराज का विहार नेमावर से यहां होना चाहिए :




5
24
20
17
4
View Result

कैलेंडर

november, 2019

अष्टमी 04th Nov, 201904th Nov, 2019

चौदस 11th Nov, 201911th Nov, 2019

अष्टमी 20th Nov, 201920th Nov, 2019

चौदस 25th Nov, 201925th Nov, 2019

hi Hindi
X
X