जैन धर्म से जुड़ी धार्मिक गतिविधियों की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं?

नियमित सदस्य बनकर पाएं हर माह एक आकर्षक न्यूज़लेटर

सदस्यता लें!

हम आपको स्पैम नहीं करेंगे और आपके व्यक्तिगत डेटा को सुरक्षित बनाएंगे

आचार्यश्री की जानकारी अब Facebook पर Youtube - आचार्यश्री विद्यासागरजी के प्रवचन देखिए Youtube पर आचार्यश्री के वॉलपेपर Android पर शाकाहारी रेस्टोरेंट Android पर दिगंबर जैन टेम्पल/धर्मशाला Android पर देश और विदेश के जैन मंदिरों एवं जिनालय की जानकारी के लिए www.jaintemple.in विजिट करें Apple Store - शाकाहारी रेस्टोरेंट आईफोन/आईपैड पर Apple Store - जैन टेम्पल आईफोन/आईपैड पर Apple Store - आचार्यश्री विद्यासागरजी के वॉलपेपर फ्री डाउनलोड करें देश और विदेश के शाकाहारी जैन रेस्तराँ एवं होटल की जानकारी के लिए www.bevegetarian.in विजिट करें

क्षमावाणी (Forgiveness)

जैन कार्ड्स (Jain Greeting Cards)


जिस प्रकार अग्नि सब कुछ जला कर ख़ाक कर देती है, उसी प्रकार क्रोध भी इस जीवन को जलाकर ख़ाक कर देता है |

जिस प्रकार जल अग्नि को शांत कर देता है, उसी प्रकार क्षमा रूपी जल भी क्रोध रूपी अग्नि को शांत कर देता है |

अतः बंधुओं अपने जीवन को ख़ाक होने से बचाने हेतु आइये हम अपने जीवन को क्षमा रूपी जल से सींचे ताकि इस आतम रूपी बगिया के धर्म रूपी वृक्ष में संयम रूपी फूल खिले और मोक्ष रूपी फल सभी को प्राप्त हों|

जन्म से लेकर मोक्ष तक की इस अनंत यात्रा का अंत करने की पहली सीढ़ी क्षमा है तो आइये आप सभी को क्षमा करके एवं सभी से क्षमा मांग कर इस मोक्ष सीढ़ी में पहला पग रखना चाहता हूँ|

ॐ नमः सबको क्षमा सबसे क्षमा

यहां से आप  क्षमावाणी कार्ड्स  डाउनलोड कर के WhatsApp, Twitter और Facebook पर शेयर सकते हैं

 

25 Comments

Click here to post a comment
  • “Kshama Veerasya Bhushanam” Vigat Vrsha Me Jane Anjane Hamari Koi Bhul Se Aapke Komal Dil Ko Thes Lagi HoTo Mansa Vacha Karmana Se UTTAM KSHAMA

  • आत्मा उन्नति का महापर्ब है सम्बसारी पर्ब प्रयूसन ,
    छोटी से छोटी बात सुल होती है आदमी हू ,आदमी से भूल होती है i
    मे छमा का प्रार्थी हू इ आपके समछ,छमा संबंधो की अनुकूल होती है
    फुल नहीं है सारे पथ मे ,भरा हुआ वह सूलो से इ
    प्यार भरा जीवन है फिर भी भरा हुआ वह भूलो से ई
    संब्स्य्सरी का पाबं पर्ब है ,आत्मालोचन का अबसर इ
    भूल हुई मन-बचन-कर्म से ,छमा करो हमको प्रिय्बर इ

    उलझे हुय सिरो को मिलने आया है — छमा पर्ब
    रिश्ते के टूटे पुल को बनाने आया है – छमा पर्ब
    जख्मो के हर निसान को मिटाने आया है -छमा पर्ब
    गुलसन मे मैत्री की बाहार लाने आया है -छमा पर्ब
    छमा बिरस्वा भूषणं,

  • kshama vaahi parv : jane anjane me hamari or se hui galtio ki, hum man-vachan-kay se aapse kshama yachna krte……..(uttam khama) dheeraj jain

  • Jai Jinender,
    Pariyushan mahaparve per aap subko bahut bahu badhaii.Jane unjane hui galti aur dharsthata ke liye dil se mafi chahte hai.Gurudev ko bar bar namostu .Unka asirvad ki abhilasa hai

कैलेंडर

december, 2017

28jun(jun 28)7:48 am(jun 28)7:48 amसंयम स्वर्ण महोत्सव

काउंटडाउन

X