जैन धर्म से जुड़ी धार्मिक गतिविधियों की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं?

नियमित सदस्य बनकर पाएं हर माह एक आकर्षक न्यूज़लेटर

सदस्यता लें!

हम आपको स्पैम नहीं करेंगे और आपके व्यक्तिगत डेटा को सुरक्षित बनाएंगे

आचार्यश्री की जानकारी अब Facebook पर Youtube - आचार्यश्री विद्यासागरजी के प्रवचन देखिए Youtube पर आचार्यश्री के वॉलपेपर Android पर शाकाहारी रेस्टोरेंट Android पर दिगंबर जैन टेम्पल/धर्मशाला Android पर देश और विदेश के जैन मंदिरों एवं जिनालय की जानकारी के लिए www.jaintemple.in विजिट करें Apple Store - शाकाहारी रेस्टोरेंट आईफोन/आईपैड पर Apple Store - जैन टेम्पल आईफोन/आईपैड पर Apple Store - आचार्यश्री विद्यासागरजी के वॉलपेपर फ्री डाउनलोड करें देश और विदेश के शाकाहारी जैन रेस्तराँ एवं होटल की जानकारी के लिए www.bevegetarian.in विजिट करें

देव दर्शन महत्व

संकलन:

श्रीमती सुशीला पाटनी
आर. के. हाऊस, मदनगंज- किशनगढ

जिनेन्द्र भगवान के दर्शन करने के विचार मात्र से दो उपवास का फल होता है।
मन्दिर जाने के लिये अभिलाषा करने से तीन उपवास का फल होता है।
मन्दिर जाने का आरम्भ करने से चार उपवास का फल होता है।
मन्दिर जाने लगता है उसे पाँच उपवास का फल होता है।
कुछ दूर पहुँचने पर बारह उपवास का फल मिलता है।
बीच में पहुँचने पर पन्द्रह उपवास का फल मिलता है।
मन्दिर का दर्शन होने से एक मास के उपवास का फल मिलता है।
मन्दिर के आंगन में में प्रवेश करने से छः मास का उपवास का फल मिलता है।
मन्दिर के द्वार में प्रवेश करने से एक वर्ष उपवास का फल मिलता है।
भगवान की प्रदक्षिणा देने पर सौ वर्ष के उपवास का फल मिलता है।
जिनेन्द्र भगवान का एकटक दर्शन करने से हजार वर्ष के उपवास का फल मिलता है।
जिनेन्द्र भगवान की स्तुति (पूजन) करने से अनंत वर्ष का फल मिलता है।
यथार्थ में जिनभक्ति से बढकर उत्तम पुण्य अन्य नहीं है।

(पद्म पुराण पर्व 32 श्लोक  178-182)

एकापि समर्थेयं, जिन भक्ति दुर्गति निवारयितुम्
पुण्यानि च पूरयि तुं दातुं मुक्तिश्रियं कृतिनः
जिनेन्द्र भक्ति सार में एक अमोघ शक्ति मानी गयी है जो दुर्गति के निवारण में समर्थ है, पुण्य का बन्ध कराने वाली है एवं मुक्ति लक्ष्मी की प्राप्ति कराने वाली है।

कैलेंडर

december, 2017

28jun(jun 28)7:48 am(jun 28)7:48 amसंयम स्वर्ण महोत्सव

काउंटडाउन

X