जैन धर्म से जुड़ी धार्मिक गतिविधियों की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं?

नियमित सदस्य बनकर पाएं हर माह एक आकर्षक न्यूज़लेटर

सदस्यता लें!

हम आपको स्पैम नहीं करेंगे और आपके व्यक्तिगत डेटा को सुरक्षित बनाएंगे

आचार्यश्री की जानकारी अब Facebook पर Youtube - आचार्यश्री विद्यासागरजी के प्रवचन देखिए Youtube पर आचार्यश्री के वॉलपेपर Android पर शाकाहारी रेस्टोरेंट Android पर दिगंबर जैन टेम्पल/धर्मशाला Android पर देश और विदेश के जैन मंदिरों एवं जिनालय की जानकारी के लिए www.jaintemple.in विजिट करें Apple Store - शाकाहारी रेस्टोरेंट आईफोन/आईपैड पर Apple Store - जैन टेम्पल आईफोन/आईपैड पर Apple Store - आचार्यश्री विद्यासागरजी के वॉलपेपर फ्री डाउनलोड करें देश और विदेश के शाकाहारी जैन रेस्तराँ एवं होटल की जानकारी के लिए www.bevegetarian.in विजिट करें

अहिंसा के बारे में क्या आप जानते हैं?

– धनराज कासलीवाल

पशु बिना मानव के रह सकते हैं, परंतु मानव समाज को अपनी जरूरतों के लिए ‘पशुओं’ पर आश्रित रहना पड़ता है।
एक शाकाहारी व्यक्ति अपने जीवनकाल में लगभग अस्सी जानवरों को अप्रत्यक्ष रूप से यंत्रणा एवं मौत से अभय प्रदान करता है।

अमेरिका स्थित पेटा नाम की संस्था विश्व की सबसे बड़ी शाकाहार प्रचारक संस्था है, जिसके आठ लाख सदस्य हैं।

एक शाकाहारी व्यक्ति के भोजन में जहाँ प्रतिदिन मात्र तीन सौ गैलन जल का उपयोग होता है, वहीं मांसाहारी भोजन हेतु चार हजार गैलन जल की प्रतिदिन आवश्यकता पड़ती है।

इस सृष्टि में एक भी मानव यदि नहीं रहता है तो इस सृष्टि की आयु कई लाख वर्ष बढ़ सकती है, इसके विपरीत यदि इस धरा से पशु की एक भी प्रजाति नष्ट होती है तो इकोलॉजिकल असंतुलन के कारण इस सृष्टि की आयु कई लाख वर्ष कम हो जाती है।

वैज्ञानिक एवं औद्योगिक प्रयोगों में छः से सात करोड़ जानवर प्रतिवर्ष मार डाले जाते हैं।

सृष्टि पर जानवर मनुष्य के खाने, पहनने, प्रयोग करने अथवा मनोरंजन के लिए नहीं हैं, वरन्‌ पशु जग की अपनी स्वतंत्र सत्ता है।

अंत में जियो और जीने दो। परस्परोपग्रहोजीवानाम्‌॥

यही सृष्टि संतुलन के दो मूल मंत्र हैं।

कैलेंडर

december, 2017

28jun(jun 28)7:48 am(jun 28)7:48 amसंयम स्वर्ण महोत्सव

काउंटडाउन

X