Click here to submit
देश और विदेश के शाकाहारी जैन रेस्तराँ एवं होटल की जानकारी के लिए www.bevegetarian.in विजिट करें देश और विदेश के जैन मंदिरों एवं जिनालय की जानकारी के लिए www.jaintemple.in विजिट करें Apple Store - आचार्यश्री विद्यासागरजी के वॉलपेपर फ्री डाउनलोड करें Apple Store - जैन टेम्पल आईफोन/आईपैड पर Apple Store - शाकाहारी रेस्टोरेंट आईफोन/आईपैड पर दिगंबर जैन टेम्पल/धर्मशाला Android पर शाकाहारी रेस्टोरेंट Android पर आचार्यश्री के वॉलपेपर Android पर Youtube - आचार्यश्री विद्यासागरजी के प्रवचन देखिए Youtube पर आचार्य श्री की जानकारी अब Facebook पर

हायकू (२२१-४७८)

575 views

२२१ – खुली शीप में, स्वाति की बूँद मुक्ता, बने, और न…!
२२२ – दिन में शशि, विदुर सा लगता, सुधा-विहीन।
२२३ – कब, पता न, मृत्यु एक सत्य है, फिर डर क्यों ?
२२४ – काल घूमता, काल पै आरोप सो, क्रिया शून्य है।
२२५ – बिना नयन, उप नयन किस, काम में आता ?
२२६ – अन जान था, तभी मजबूरी में, मज़दूर था।
२२७ – बिन देवियाँ, देव रहे, देवियाँ, बिन-देव ना…!
२२८ – काला या धोला, दाग, दाग है फिर, काला तिल भी…
२२९ – हीरा, हीरा है, काँच, काँच है किन्तु, ज्ञानी के लिए…
२३० – पापों से बचे, आपस में भिड़े क्या, धर्म यही है ?

२३१ – डाल पे पका, गिरा आम मीठा हो, गिराया खट्टा…
२३२ – भार हीन हो, चारु-भाल की माँग, क्या मान करो ?
२३३ – पक्षाघात तो, आधे में हो, पूरे में, सो पक्षपात…
२३४ – प्रति-निधि हूँ, सन्निधि पा के तेरी, निधि माँगू क्या ?
२३५ – आस्था व बोध, संयम की कृपा से, मंज़िल पाते।
२३६ – स्मृति मिटाती, अब को, अब की हो, स्वाद शून्य है।
२३७ – शब्द की यात्रा, प्रत्यक्ष से अन्यत्र, हमें ले जाती।
२३८ – चिन्तन में तो, परालम्बन होता, योग में नहीं।
२३९ – सत्य, सत्य है, असत्य, असत्य तो, किसे क्यों ढाँकू…?
२४० – किसको तजूँ, किसे भजूँ सबका, साक्षी हो जाऊँ।

२४१ – न पुंसक हो, मन ने पुरुष को, पछाड़ दिया…
२४२ – साधना क्या है ?, पीड़ा तो पी के देखो, हल्ला न करो।
२४३ – खाल मिली थी, यहीं मिट्टी में मिली, ख़ाली जाता हूँ।
२४४ – जिस भाषा में, पूछा उसी में तुम, उत्तर दे दो।
२४५ – कभी न हँसो, किसी पे, स्वार्थवश, कभी न रोओ।
२४६ – दर्पण कभी, न रोया न हँसा, हो, ऐसा सन्यास।
२४७ – ब्रह्म रन्ध्र से-, बाद, पहले श्वास, नाक से तोलो।
२४८ – सामायिक में, तन कब हिलता, और क्यों देखो…?
२४९ – कम से कम, स्वाध्याय (श्रवण) का वर्ग हो प्रयोग-काल।
२५० – एक हूँ ठीक, गोता-खोर तुम्बी क्या, कभी चाहेगा ?

२५१ – बिना विवाह, प्रवाहित हुआ क्या, धर्म-प्रवाह।
२५२ – दूध पे घी है, घी से दूध न दबा, घी लघु बना।
२५३ – ऊपर जाता, किसी को न दबाता, घी गुरु बना।
२५४ – नाड़ हिलती, लार गिरती किन्तु, तृष्णा युवती।
२५५ – तीर न छोड़ो, मत चूको अर्जुन !, तीर पाओगे।
२५६ – बाँध भले ही, बाँधो, नदी बहेगी, अधो या ऊर्ध्व।
२५७ – अनागत का, अर्थ, भविष्य न, पै, आगत नहीं।
२५८ – तुलनीय भी, सन्तुलित तुला में, तुलता मिला।
२५९ – अर्पित यानी, मुख्य, समर्पित सो, अहंका त्याग।
२६० – गन्ध जिव्हा का, खाद्य न, फिर क्यों तू, सौगंध खाता ?

२६१ – स्व-स्व कार्यों में, सब लग गये पै, मन न लगा ।
२६२ – तपस्वी बना, पर्वत सूखे पेड़, हड्डी से लगे।
२६३ – अन्धकार में, अन्धा न, आँख वाला, डर सकता।
२६४ – जल कण भी, अर्क तूल को, देखा !, धूल खिलाता।
२६५ – जल में तैरे, स्थूल-काष्ठ भी, लघु-, कंकर डूबे।
२६६ – छाया सी लक्ष्मी, अनुचरा हो, यदि, उसे न देखो।
२६७ – गुरु औ शिष्य, आगे-पीछे, दोनों में, अन्तर कहाँ ?
२६८ – सत्य न पिटे, कोई न मिटे ऐसा, न्याय कहाँ है ?
२६९ – ऊहापोह के, चक्रव्यूह में-धर्म, दुरुह हुआ।
२७० – नेता की दृष्टि, निजी दोषों पे हो, या, पर गुणों पे।

२७१ – गिनती नहीं, आम में मोर आयी, फल कितने ?
२७२ – दु:खी जग को, तज, कैसे तो जाऊँ, मोक्ष ? सोचता।
२७३ – दीप काजल, जल काई उगले, प्रसंग वश।
२७४ – बोलो ! माटी के, दीप-तले अंधेरा, या रतनों के ?
२७५ – बिना राग भी, जी सकते हो जैसे, निर्धूम अग्नि।
२७६ – दायित्व भार, कन्धों पे आते, शक्ति, सो न सकती।
२७७ – सुलझे भी हो, और औरों को क्यों तो ?, उलझा देते ?
२७८ – कब बोलते ?, क्यों बोलते ? क्या बिना, बोले न रहो ?
२७९ – तपो वर्धिनी, मही में ही मही है, स्वर्ग में नहीं।
२८० – और तो और, गीले दुपट्टे को भी, न फटकारो।

२८१ – ख़ूब बिगड़ा, तेरा उपयोग है, योगा कर ले !
२८२ – ज्ञान ज्ञेय से, बड़ा, आकाश आया, छोटी आँखों में।
२८३ – पचपन में, बचपन क्यों ? पढ़ो, अपनापन।
२८४ – भोगों की याद, सड़ी-गली धूप सी, जान खा जाती
२८५ – सहगामी हो, सहभागी बने सो, नियम नहीं।
२८६ – पद चिह्नों पै, प्रश्न चिन्ह लगा सो, उत्तर क्या दूँ ( किधर जाना ?)
२८७ – निश्चिन्तता में, भोगी सो जाता, वहीं, योगी खो जाता।
२८८ – शत्रु मित्र में, समता रखें, न कि, भक्ष्या भक्ष्य में।
२८९ – आस्था झेलती, जब आपत्ति आती, ज्ञान चिल्लाता?
२९० – आत्मा ग़लती, रागाग्नि से, लोदी सी, कटती नहीं।

२९१ – नदी कभी भी, लौटती नहीं फिर !, तू क्यों लौटता ?
२९२ – समर्पण पै, कर्त्तव्य की कमी से, सन्देह न हो।
२९३ – कुण्डली मार, कंकर पत्थर पै, क्या मान बैठे ?
२९४ – खुद बँधता, जो औरों को बाँधता, निस्संग हो जा।
२९५ – सदुपयोग-, ज्ञान का दुर्लभ है, मद-सुलभ।
२९६ – ज्ञानी हो क्यों कि, अज्ञान की पीड़ा में, प्रसन्न-जीते।
२९७ – ज्ञान की प्यास, सो कही अज्ञान से, घृणा तो नहीं।
२९८ – प्रभु-पद में, वाणी, काया के साथ मन ही भक्ति।
२९९ – मूर्छा को कहा, परिग्रह, दाता भी, मूर्च्छित न हो।
३०० – जीवनोद्देश, जिना देश-पालन, अनुपदेश।

३०१ – द्वेष से राग, विषैला होता जैसा, शूल से फूल।
३०२ – विषय छूटे, ग्लानि मिटे, सेवा से, वात्सल्य बढ़े।
३०३ – अग्नि पिटती, लोह की संगति से, अब तो चेतो।
३०४ – सर्प ने छोड़ी, काँचली, वस्त्र छोड़े !, विष तो छोड़ो…!
३०५ – असमर्थन, विरोध सा लगता, विरोध नहीं।
३०६ – हम वस्तुत:, दो हैं, तो एक कैसे, हो सकते हैं ?
३०७ – मैं के स्थान में, हम का प्रयोग क्यों, किया जाता है ?
३०८ – मैं हट जाऊँ, किन्तु हवा मत दो, और न जले…!
३०९ – बड़ी बूँदों की, वर्षा सी बड़ी राशि, कम पचती।
३१० – जिज्ञासा यानी, प्राप्त में असन्तुष्टि, धैर्य की हार…!

३११ – बिना अति के, प्रशस्त नीति करो, सो विनती है।
३१२ – सुनो तो सही, पहले सोचो नहीं, पछताओगे।
३१३ – केन्द्र को छूती, नपी, सीधी रेखाएँ, वृत्त बनाती।
३१४ – शक्ति की व्यक्ति, और व्यक्ति की मुक्ति होती रहती।
३१५ – जो है ‘सो’ थामें, बदलता, होगा ‘सो’ है में ढलता।
३१६ – चिन्तन-मुद्रा, प्रभु की नहीं क्यों कि वह दोष है।
३१७ – पथ में क्यों तो, रुको, नदी को देखो चलते चलो।
३१८ – ज्ञानी ज्ञान को, कब जानता जब, आपे में होता।
३१९ – बँटा समाज, पंथ-जाति-वाद में, धर्म बाद में
३२० – घर की बात, घर तक ही रहे।, बे-घर न हो।

३२१ – अकेला न हूँ, गुरुदेव साथ हैं, हैं आत्मसात् वे।
३२२ – निर्भय बनो, पर निर्भीक होने, गर्व न पालो।
३२३ – अति मात्रा में, पथ्य भी कुपथ्य हो, मात्रा माँ सी हो।
३२४ – संकट से भी, धर्म-संकट और, विकट होता।
३२५ – अँधेरे में हो, किंकर्त्तव्य मूढ़ सो, कर्त्तव्य जीवी।
३२६ – धन आता दो, कूप साफ़ कर दो, नया पानी लो।
३२७ – हम से कोई, दु:खी नहीं हो, बस !, यही सेवा है।
३२८ – चालक नहीं, गाड़ी दिखती, मैं न, साड़ी दिखती।
३२९ – एक दिशा में, सूर्य उगे कि दशों-, दिशाएँ ख़ुश।
३३० – जीत सको तो, किसी का दिल जीतो, सो, बैर न हो।

३३१ – सिंह से वन, सिंह, वन से बचा, पूरक बनो।
३३२ – तैरना हो तो, तैरो हवा में, छोड़ो !, पहले मोह।
३३३ – गुरु कृपा से, बाँसुरी बना, मैं तो, ठेठ बाँस था।
३३४ – पर्याय क्या है ?, तरंग जल की सो !, नयी-नयी है।
३३५ – पुण्य का त्याग, अभी न, बुझे आग, पानी का त्याग।
३३६ – प्रेरणा तो दूँ, निर्दोष होने, रुचि, आप की होगी।
३३७ – वे चल बसे, यानी यहाँ से वहाँ, जा कर बसे।
३३८ – कहो न, सहो, सही परीक्षा यही, आपे में रहो।
३३९ – पाँचों की रक्षा, मुठ्ठी में, मुठ्ठी बँधी, लाखों की मानी।
३४० – केन्द्र की ओर, तरंगें लौटती सी, ज्ञान की यात्रा।

३४१ – बँधो न बाँधो, काल से व काल को, कालजयी हो।
३४२ – गुरु नम्र हो, झंझा में बड़ गिरे, बेंत ज्यों की त्यों।
३४३ – तैरो नहीं तो, डूबो कैसे, ऐसे में, निधि पाओगे ?
३४४ – मध्य रात्रि में, विभीषण आ मिला, राम, राम थे।
३४५ – व्यापक कौन ?, गुरु या गुरु वाणी, किस से पूछें ?
३४६ – योग का क्षेत्र, अंतर्राष्ट्रीय, नहीं, अंतर्जगत् है।
३४७ -मत दिलाओ, विश्वास लौट आता, व्यवहार से।
३४८ -सार्थक बोलो, व्यर्थ नहीं साधना, सो छोटी नहीं।
३४९ -मैं खड़ा नहीं, देह को खड़ा कर, देख रहा हूँ।
३५० -आँखें ना मूँदों, नाही आँख दिखाओ, सही क्या देखो?

३५१ -हाथ ना मलो, ना ही हाथ दिखाओ, हाथ मिलाओ।
३५२ -जाने केवली, इतना जानता हूँ, जानन हारा।
३५३ -ठण्डे बस्ते में, मन को रखना ही, मोक्षमार्ग है।
३५४ -आँखें देखती, हैं मन सोचता है, इसमें मैं हूँ।
३५५ -उड़ना भूली, चिड़िया सोने की तू, उठ उड़ जा।
३५६ -झूठ भी यदि, सफ़ेद हो तो सत्य, कटु क्यों न हो ?
३५७ -परिधि में ना, परिधि में हूँ हाँ हूँ, परिधि सृष्टा।
३५८ -बचो-बचाओ, पाप से पापी से ना, पुण्य कमाओ।
३५९ -हँसो-हँसाओ, हँसी किसी की नहीं, इतिहास हो।
३६० -अति संधान, अनुसंधान नहीं, संधान साधो।

३६१ -है का होना ही, द्र्व्य का स्वभाव है, सो सनातन।
३६२ -सुना था सुनो, ”अर्थ की ओर न जा” डूबो आपे में।
३६३ -अपनी नहीं, आहुति अहं की दो, झाँको आपे में।
३६४ -पीछे भी देखो, पिछलग्गू न बनो, पीछे रहोगे।
३६५ -द्वेष पचाओ, इतिहास रचाओ, नेता बने हो।
३६६ -काम चलाऊ, नहीं काम का बनूँ, काम हंता भी।
३६७ -आँखों से आँखें, न मिले तो भीतरी, आँखें खुलेगी।
३६८ -ऊधमी तो है, उद्यमी आदमी सो, मिलते कहाँ ?
३६९ -तुम तो करो, हड़ताल मैं सुनूँ हर ताल को।
३७० -संग्रह कहाँ, वस्तु विनिमय में, मूर्छा मिटती।

३७१ -सगा हो दगा, अर्थ विनिमय में, मूर्छा बढ़ती।
३७२ -धुन के पक्के, सिद्धांत के पक्के हो, न हो उचक्के ।
३७३ -नये सिरे से, सिर से उर से हो, वर्षादया की।
३७४ -ज़रा ना चाहूँ, अजरामर बनूँ, नज़र चाहूँ।
३७५ ‍-बिना खिलौना, कैसे किससे खेलूँ, बनूँ खिलौना।
३७६ -चिराग़ नहीं, आग जलाऊँ, ताकि, कर्म दग्ध हों।
३७७ -खेती-बाड़ी है, भारत की मर्यादा, शिक्षा साड़ी है।
३७८ -शरण लेना, शरण देना दोनों, पथ में होते।
३७९ -दादा हो रहो, दादागिरी न करो, दायित्व पालो।
३८० -हाथ तो डालो, वामी में विष को भी, सुधा दो हो तो।

३८१ -श्वेत पत्र पे, श्वेत स्याही से कुछ, लिखा सो पढ़ो।
३८२ -राज़ी ना होना, नाराज़ सा लगता, नाराज़ नहीं।
३८३ -भार तो उठा, चल न सकता तो, पैर उठेंगे।
३८४ -मन का काम, मत करो मन से, काम लो मोक्ष।
३८५ ‍-छात्र तो न हो, शोधार्थी शिक्षक व, प्रयोगधर्मी।
३८६ -दिन में शशि, शर्मिंदा हैं तारायें, घूँघट में है।
३८७ -दीक्षा ली जाती, पद दिया जाता है, सो यथायोग्य ।
३८८ -उन्हें न भूलो, जिनसे बचना है, वक़्त-वक्त पे।
३८९ -सूत्र कभी भी, वासा नहीं होता सो, भाव बदलो।
३९० -ध्यान काल में, ज्ञान का श्रम कहाँ, पूरा विश्राम।

३९१ -खान-पान हो, संस्कारित शिक्षा से, खान-दान हो।
३९२ -ऐसा संकेत, शब्दों से भी अधिक, हो तलस्पर्शी।
३९३ -हम अधिक, पढ़-लिखे हैं कम, समझदार
३९४ -मेरी दो आँखें मेरी ओर हजार सतर्क होऊँ।
३९५ -मुक़द्दर है, उतनी ही चद्दर, पैर फैलाओ।
३९६ -घुटने टेक, और घुटने दो न, घोंटते जाओ।
३९७ -अशुद्धि मिटे, बुध्दि की वृध्दि न हो। विशुध्दि बढ़े।
३९८ -गोबर डालो, मिट्टी में सोना पालो, यूरिया राख।
३९९ – हमसे उन्हें, पाप बंध नहीं हो, यही सेवा है।
४०० – प्राणायाम से, श्वास का मात्र न हो, प्राण दस है।

४०१ – देख रहा हूँ, देख न पा रही है, वे आँखें मुझे।
४०२ – दुस्संगति से बचो, सत् संगति में, रहो न रहो।
४०३ – दुर्ध्यान से तो, दूर रहो सध्यान, करो न करो।
४०४ – कर्रा न भले, टर्रा न हो तो पक्का, पक सकोगे।
४०५ – अंधाधुँध यूँ, महाबंध न करो, अंधों में अंधों।
४०६ – कमी निकालो, हम भी हम होंगे, कहाँ न कमी।
४०७ – लज्जा आती है, पलकों को बना लें, घूँघट में जा।
४०८ – कड़वी दवा, उसे रुचति जिसे, आरोग्य पाना।
४०९ – स्व आश्रित हूँ , शासन प्रशासन, स्वशासित हैं।
४१० – सागर शांत, मछली अशांत क्यों ? स्वाश्रित हो जा।

४११ – कोठिया नहीं, छप्पर फाड़ देती, पक्की आस्था हो।
४१२ – धनी से नहीं, निर्धनी निर्धनी से, मिले सुखी हो।
४१३ – दण्डशास्त्र क्यों ? जैसा प्रभू ने देखा, जो होना हुआ।
४१४ – ईर्ष्या क्यों करो. ईर्ष्या तो बड़ों से हो, छोटे क्यों बनो ?
४१५ – टूट चुका है, बिखरा भर नहीं, कभी जुड़ा था।
४१६ – तपस्या नहीं, पैरों की पूजा देख, आँखें रो रही।
४१७ – भिन्न क्या जुड़ा ? अभिन्न कभी टूटा, कभी सोचा भी ?
४१८ – कौन किससे ? कम है मत कहो, मैं क्या कम हूँ ?
४१९ – त्याग का त्याग, अभी न बुझे आग, पानी का त्याग।
४२० – प्रेरणा तो दूँ , निर्दोष होने बचो, दोष से आप।

४२१ – यात्रा वृत्तांत, ‘‍’लिख रहा हूँ वो भी”, बिन लेखनी।
४२२ – मन की बात ”सुनना नहीं होता” मोक्षमार्ग में।
४२३ – ठंडे बस्ते में ”मन को रख फिर” आत्मा में डूब।
४२४ – खाली हाथ ले ”आया था जाना भी है” खाली हाथ ले।
४२५ – आँखें देखती ”मन याद करता” दोनों में मैं हूँ।
४२६ – दिख रहा जो ‘दृष्टा नहीं दृष्टा सो” दिखता नहीं।
४२७ – आग से बचा ‘धूंवा से जला (व्रती) सा, तू” मद से घिरा।
४२८ – चूल को देखूँ ‘मूलको बंदू भूल” आमूल चूल।
४२९ – अंधी दौड़ में ”आँख वाले हो क्यों तो” भाग लो सोचो।
४३० – महाकाव्य भी ”स्वर्णाभरण सम” निर्दोष न हो।

४३१ – पैरों में काँटे ”गड़े आँखों में फूल” आँखें क्यों चली।
४३२ – चक्री भी लौटा ”समवशरण से ” कारण मोह।
४३३ – दर्शन से ना ”ज्ञान से आज आस्था” भय भीत है।
४३४ – एकता में ही ”अनेकांत फले सो” एकांत टले।
४३५ – पीठ से मैत्री ”पेट ने की तब से” जीभ दुखी है।
४३६ – सूर्य उगा सो ”सब को दिखता क्यों” आँखे तो खोलो।
४३७ – अंधे बहरे ”मूक क्या बिना शब्द” शिक्षा ना पाते।
४३८ – पद यात्री हो ”पद की इच्छा बिन” पथ पे चलूँ।
४३९ – सही चिंतक ”अशोक जड़ सम” सखोल जाता।
४४० – बिन्दु की रक्षा, सिन्धु में नहीं बिन्दु, बिन्दु से मिले।

४४१ – भोग के पीछे, भोग चल रहा है, योगी है मौन।
४४२ – श्वेत पे काला, या काले पे श्वेत हो, मंगल कौन?
४४३ – थोपी योजना, पूर्ण होने से पूर्व, खण्डहर सी।
४४४ – हिन्दुस्थान में, सफल फिसल के, फसल होते।
४४५ – शब्दों में अर्थ, यदि भरा किससे, कब क्यों बोलो।
४४६ – व्यंजन छोडूँ, गूंग है पढूँ है सो, स्वर में सनूँ।
४४७ – कटु प्रयोग, उसे रूचता जिसे, आरोग्य पाना।
४४८ – एक से नहीं, एकता से काम लो, काम कम हो।
४४९ – बड़ों छोटो पे, वात्सल्य विनय से, एकता पाये।
४५० – शब्दों में अर्थ, है या आत्मा में इसे, कौन जानता।

४५१ – असत्य बचे, बाधा न सत्य कभी, पिटे न बस।
४५२ – किसे मैं कहूँ, मुझे मैं नहीं मिला, तुम्हें क्या (मैं) मिला।
४५३ – मण्डूक बनो, कूप मण्डूक नहीं, नहीं डूबोगे।
४५४ – किस मूढ़ में, मोड़ पे खड़ा सही, मोड़ा मुड़ जा।
४५५ – बहुत सोचो, कब करो ना सोचे, करो लुटोगे।
४५६ – मरघट पे जमघट है शव, कहता लौटूँ।
४५७ – ज्ञानी बने हो, जब बोलो अपना, स्वाद छूटता।
४५८ – कोहरा को ना, को रहा कोहरे में, ठली मोह है।
४५९ – जल में नाव, कोई चलाता किंतु, रेत में मित्रों।
४६० – रोते को देख, रोते तो कभी और, रोना होता है।

४६१ – तुम्बी तैरती, तारती औरों को भी, गीली क्या सूखी?
४६२ – भली नासिका, तू क्यों कर फूलती, मान हानि में।
४६३ – कैदी हूँ, देह, जेल में जेलर ना, तो भी वहीं हूँ।
४६४ – हाथ कंगन, बिना बोले रहे, दो, बर्तन क्यों ना?
४६५ – बंदर चूके, अचूक और उसे, अस्थिर कहो।
४६६ – सहजता औ, प्रतिकार का भाव, बेमेल रहे।
४६७ – पर की पीड़ा, अपनी करुणा की, परीक्षा लेती।
४६८ – परिचित भी, अपरिचित लगे, स्वस्थ ज्ञान को।
४६९ – कच्ची नींव है, घर कच्चा है छांव, पर्याप्त है ना।
४७० – कर्त्तव्य मान, ऋण रणांगन को, पीठ नहीं दो।

४७१ – पगडंडी में, डंडे पडते तो क्या, राजमार्ग में?
४७२ – प्रतिशोध में, बोध अंधा हो जाता, शोध तो दूर।
४७३ – मैं क्या जानता, क्या क्या न जानता सो, गुरु जी जानें।
४७४ – धनिक बनो, अधिक वैधानिक, पहले बनो।
४७५ – दर्पण कभी, न रोया श्रृद्धा कम, क्यों रोओ हँसो।
४७६ – है का होना ही, द्रव्य का प्रवास है, सो सनातन।
४७७ – सन्निधिता क्यों, प्रतिनिधि हूँ फिर, क्या निधि माँगू।
४७८ – सब अपने, कार्यों में लग गये, मन न लगा।

© 2017 vidyasagar.net दयोदय चेरिटेबल फाउंडेशन ट्रस्ट (इंदौर, भारत) द्वारा संचालित Designed, Developed & Maintained by: Webdunia