Click here to submit
देश और विदेश के शाकाहारी जैन रेस्तराँ एवं होटल की जानकारी के लिए www.bevegetarian.in विजिट करें देश और विदेश के जैन मंदिरों एवं जिनालय की जानकारी के लिए www.jaintemple.in विजिट करें Apple Store - आचार्यश्री विद्यासागरजी के वॉलपेपर फ्री डाउनलोड करें Apple Store - जैन टेम्पल आईफोन/आईपैड पर Apple Store - शाकाहारी रेस्टोरेंट आईफोन/आईपैड पर दिगंबर जैन टेम्पल/धर्मशाला Android पर शाकाहारी रेस्टोरेंट Android पर आचार्यश्री के वॉलपेपर Android पर Youtube - आचार्यश्री विद्यासागरजी के प्रवचन देखिए Youtube पर आचार्य श्री की जानकारी अब Facebook पर

आचार्य श्री के प्रवचन: आत्मा सनातन है

3,981 views

Get the Flash Player to see this content.

Click Here To Download

प्रवचन की अन्य सी.डी. तथा ग्रन्थ के लिए संपर्क करें :

प्रदीप जैन, राज कुमार जैन : +91-9406920173.
प्रीति कैसेट इंडस्ट्री बड़ा बाज़ार, सागर (म.प्र) (भारत).

अनिल ब्रम्हचारी जी :
अमर ग्रंथालय, श्री दिगम्बर जैन उदासीन आश्रम, 584 एम.जी. रोड, इंदौर-1, फोन : 0731-2545744, मो. +91-94254-78846.

* वेबसाइट पर प्रस्तुत सामग्री धर्म प्रभावना हेतु डाली गई है। इसे विनयपूर्वक देखें-सुनें, अविनय ना हो। *

2 Responses to “आचार्य श्री के प्रवचन: आत्मा सनातन है”

Comments (2)
  1. This is a very good collection of pravachan of Acharyashri. If we could listen to some more it would have been a blessing for us.

    jai jinendra

  2. Gurudev ke pravachan sunne ke baad aisa feel hota hai ki Aatma apna saccha swaroop bhul gaya hai. Yeh sansar humari aankhon par ek kapde ki patti bandhkar hame kahi aur bhatka raha hai. Parantu aankh par patti jarur bhandi hai lekin kaan khule hai to guruvani sunkar ek din hamara bhi Kalyan jarur hoha. Aisi shubh bhavna ke sath NAMOSTU AACHARYA SHREE.

Leave a Reply

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

(required)

(required)

Comment body must not contain external links.Do not use BBCode.
© 2017 vidyasagar.net दयोदय चेरिटेबल फाउंडेशन ट्रस्ट (इंदौर, भारत) द्वारा संचालित Designed, Developed & Maintained by: Webdunia