समयसागर जी महाराज : सागर की ओरसुधासागर जी महाराज : चवलेश्वर पार्श्वनाथ मंदिर (चांदपुरा राज.) में हैं योगसागर जी महाराज : नेमावर की ओरमुनिश्री प्रमाणसागरजी महाराज : सम्मेदशिखर की ओर आचार्यश्री की जानकारी अब Facebook पर Youtube - आचार्यश्री विद्यासागरजी के प्रवचन देखिए Youtube पर आचार्यश्री के वॉलपेपर Android पर शाकाहारी रेस्टोरेंट Android पर दिगंबर जैन टेम्पल/धर्मशाला Android पर देश और विदेश के जैन मंदिरों एवं जिनालय की जानकारी के लिए www.jaintemple.in विजिट करें

आचार्यश्री के स्वास्थ्य में सुधार, देशभर में प्रार्थनाएं, मंत्रोच्चार

नई दिल्ली। भोर की किरणें अभी फूटी नही हैं लेकिन माहौल में उजलापन हैं। कुछ लोग उत्सुक सी निगाहों से एकाग्र चित्त हो करबद्ध हो कर एक ही दिशा की और निहार रहे हैं। अचानक माहौल में कुछ हलचल सी लगती हैं, और वातावरण पूरी तरह से शांत हो जाता हैं। एक बेहद कृशकाय देह धीरे धीरे धुंधलकें में आगे बढती नजर आती हैं। लगता है मानो धीरे धीरें उनके आगे बढतें कदमों से उजाला दिव्य प्रकाश में बदलता जा रहा हैं। धीमे कदमों के बावजूद, चेहरें पर वो ही तेज, वो ही दृ्ढता और चेहरें पर हल्की सी मुस्कराहट।

क्षीण स्वास्थय में भी वैसी ही घोर साधना, वैसी ही दृढता। माहौल में आचार्यश्री की जयकार गूंज उठ्ती हैं। वहा मौजूद श्रद्धालुओं के चेहरों पर दूर से ही सहीं लेकिन आचार्यश्री की एक मद्दम सी झलक भर पा लेने से ही दर्शन लाभ का संतोष पा लेने की अनुभूति देखी जा सकती हैं।इतनी दूर से मात्र एक हल्की सी झलक पाने से आह्लादित एक श्रद्धालु कहते हैं “इन की तो चाहे दूर से ही हो,एक झलक ही काफी हैं, जब से सुना आचार्य श्री अस्वस्थ हैं, मन बहुत अशांत था, राहत की बात हैं कि आचार्य श्री के स्वास्थ्य में सुधार हो रहा हैं।

ये दृश्य हैं इंदौर स्थित तीर्थोदय धाम रेवती रेंज प्रतिभास्थली का जहा तपस्वी, दार्शनिक संत आचार्य श्री विद्यासागर इन दिनों पावन चातुर्मास कर रहे हैं। ये सभी श्रद्धालु न केवल उन के दर्शन लाभ करना चाहते थे साथ ही कुछ दिन पूर्व उन के अस्वस्थ होने के समाचारों से चिंतित हो कर उनके दर्शन करने आये थे, लेकिन वर्षायोग समिति के आयोजकों ने कोरोना महामारी के चलतें आचार्य श्री और उन के संघ से सभी श्रद्धालुओं को देह दूरी का पालन करते हुए श्रद्धालुओं को अत्यंत सीमित तादाद में ही आने के निर्देश दियें और वह भी खास नियमों के तहत।

इन नियमों के अनुसार आचार्य के वर्षा योग परिसर स्थल पर बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को प्रवेश की अनुमति नहीं है। आचार्य श्री से जुड़े श्रद्धालु तथा दयोदय वर्षायोग समिति के महामंत्री अर्पित पाटोदी व आचार्यश्री से जुड़े श्रद्धेय ब्रहमचारी सुनील भैया के अनुसार आचार्य श्री की तबीयत में सुधार हो रहा है तथा जल्द ही श्रद्धालु उन के दर्शन कर पायेंगे। वे प्रसन्न चित्त हैं तथा संयम साधना का उसी दृढता से पालन कर रहे हैं। आचार्य श्री के शीघ्र पूर्ण स्वास्थ लाभ हेतु देश भर में श्रधालु पूजा पाठ, प्रार्थानायें और मंत्रोच्चार कर रहे हैं और वीतरागी संत क्षीण स्वा्स्थ्य में इस सब से दूर निर्लिप्त हो, उसी दृढता से धर्मचर्या और तप साधना कर रहे हैं।

इन दिनों आचार्य श्री जिस वर्षायोग स्थल पर हैं उस स्थल के अंदर अत्यंत सीमित संख्या में वो ही श्रधालु हैं जो चौके की व्यवस्था करते है। इसी के चलते उन के प्रवचन भी काफी समय से नहीं हुए हैं। इन हालात में वर्षायोग समिति ने देश भर में श्रद्धालुओं से आग्रह किया हैं कि वे सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए आचार्य श्री के दर्शन के लियें परिसर में नही आयें। स्थतियॉ अनुकूल होने पर वे दर्शन भी कर पायेंगे और प्रवचन भी सुन पायेंगे आचार्य श्री की तप साधना वैसे भी घोर होती हैं इन दिनों तो वे और दृढता से तपस्या कर रहे हैं। अर्पित पाटोदी और ब्रह्मचारी सुनील जी के अनुसार जिस तरह से आचार्य श्री के स्वास्थ्य में सुधार हो रहा हैं, जल्द ही श्रद्धालु सोशल डिस्टेटिंग का पालन करते हुए सीमित संख्या में दर्शन कर पायेंगे। श्रद्धालुओं की भी यहीं प्रार्थना हैं।

साभार : (शोभना/अनुपमा जैन, वीएनआई)

प्रवचन वीडियो

2021 : विहार रूझान

मेरी भावना है कि संत शिरोमणि विद्यासागरजी महामुनिराज का विहार नेमावर से यहां होना चाहिए :




2
1
24
20
17
View Result

कैलेंडर

april, 2021

अष्टमी 04th Apr, 202104th Apr, 2021

चौदस 10th Apr, 202110th Apr, 2021

अष्टमी 20th Apr, 202120th Apr, 2021

चौदस 26th Apr, 202126th Apr, 2021

hi Hindi
X
X